Header Ads

कंडोम के इस्‍तेमाल करने से पहले जानकारी


कंडोम के इस्‍तेमाल करने से पहले जान लें ये 5 जरूरी बातें, नही तो बहुत पछतायेंगे


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपको हमारे चैनेल में,आज हम आपको कंडोम इस्तेमाल करने से पहले आप इन जरूरी बात को जरूर जान ले नही तो पछतायेंगे।उससे पहले आप अगर हमारे चैनेल पर नए आये है तो फॉलो जरूर करे और हमारे पुराने मित्र लाइक करना ना भूले।दोस्तों आजकल पूरी दुनिया में अनचाहे गर्भ से छुटकारा पाने के लिए कंडोम का इस्तेमाल किया जाता है।इसका इस्तेमाल महिला और पुरुष दोनों करते है लेकिन बहुत से लोग इसका इस्तेमाल सही जानकारी के आभाव में ठीक से नही करते है।कंडोम का इस्तेमाल करने से पहले आपको ये जरूरी बाते आपको जरूर जानना चाहिए।1. सबसे पहले कंडोम खरीदते वक्त कंडोम के एक्सपायर डेट को जरूर जाँच लेना चाहिए नही तो इससे संक्रमण का खतरा बहुत बढ़ जाता है।

2. कंडोम का उपयोग करने से पहले आप अपने हाथ को अच्छी तरह से धोये और साफ सफाई का बहुत अच्छे तरीके से ध्यान रखे।
3. दोस्तों स्त्री या पुरुष एक समय में कोई एक ही कंडोम प्रयोग करे दोनों एक साथ इस्तेमाल न करे। 4. एक कंडोम का इस्तेमाल एक बार करे इसके बाद आप इसका उपयोग भूलकर भी ना करे। 5. डिस्चार्ज हो जाने के बाद आप कंडोम का तुरंत निकाल दे नही तो इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। क्या आप कंडोम का इस्तेमाल करते है तो हमे जरूर बताये। दोस्तों अगर आपको ये जानकारी अच्छा लगा तो आप हमे लिखे और फॉलो जरूर करे।
99% लोग नहीं जानते है कंडोम से जुड़ी यह सच्चाई, एक बार पढ़ ले वरना पछताते रह जाओगे


दोस्तों आज अक्सर लोग शारीरिक संबंध बनाते समय अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए कंडोम का इस्तेमाल करते है| वहीँ कई लोग कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते| शारीरिक संबंध बनाते समय कंडोम का इस्तेमाल जरुर करना चाहिए| यह आपको अनचाही प्रेगनेंसी से तो बचाता ही है| साथ ही कई खतरनाक बीमारियों से भी बचाता है| जिसमे एचआईवी एड्स जैसी बीमारियों से बचाए रखता है| लेकिन अक्सर लोग कंडों का इस्तेमाल करते समय कुछ ऐसी गलतियां कर देते है| जिसके कारण उन्हें आगे चलकर पछताना पड़ता है| आज हम आपको कंडोम से जुडी उन सच्चैयोप के बारे में बताने जा रहे है| जिसके बारे में अधिकतर लोग नहीं जानते|

कैंसर होने का खतरा

डॉक्टर्स का कहना है की कंडोम बनाते समय पाउडर और लुब्रिकेंट्स का इस्तेमाल होता है| जिसके इस्तेमाल से कैंसर होने का खतरा बना रहता है| लेकिन इसका काफी कम संभावना होती है|

स्किन में समस्या

अक्सर लोग अनचाही प्रेगनेंसी और एड्स जैसी बीमारियों से बचने के लिए कंडोम का इस्तेमाल करते है| लेकिन आपको बता दे कंडोम बनाने में लेटेक्स का इस्तेमाल होता है| जिसका इस्तेमाल करने के बाद स्किन में खुजली जैसी समस्या हो सकती है| इसलिए कंडोम के इस्तेमाल के बाद गुप्तागो को धो ले|

अनचाही प्रेगनेंसी का खतरा

अक्सर लोग कंडोम खरीद कर जल्दबाजी में छुपा कर रख लेते है| यहीं पर वह सबसे बड़ी गलती करते है| क्यूंकि जब भी आप कंडोम ख़रीदे तो उसकी एक्सपायरी डेट जरुर चेक करे| क्यूंकि अगर कंडोम की एक्सपायरी डेट निकलने के बाद वह कंडोम कमजोर हो जाता है| जिसका इस्तेमाल करते समय अन्दर फट सकता है| जिससे अनचाही प्रेगनेंसी का खतरा हो सकता है|

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेन्ट कर जरुर बताये| आगे भी ऐसी ही जानकारियाँ रोजाना पाने के लिए इस पोस्ट को लैक कर शेयर करना ना भूले|
कंडोम का सच : अगर आप करते है कंडोम का इस्तेमाल तो हो सकती है ये बड़ी और खतरनाक बीमारी

अपनी संस्कृति और परम्परा के लिए भारत विश्वभर में मशहूर भारत में सेक्स के लिए कंडोम के इस्तेमाल को लेकर कई भ्रांतियां हैं। इन गलतफहमियों के चलते लोग संभोग के समय कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते या तो गलत तरीके से करते हैं। हम आपको बताएंगे कि कैसे कंडोम का सही इस्तेमाल करें और जीवन भर अनगिनत बिमारियों से सुरक्षित रहें। जानिए कंडोम से जुड़े मिथक .. 

कंडोम खरीदने के लिए 18 साल का होना जरूरी
आप किसी भी युवा या वृद्धावस्था में कंडोम खरीद सकते हैं। आप किसी कम्युनिटी कॉन्ट्रसेप्टिव क्लिनिक, सेक्शुअल ऐंड जेनिटोयोरिनरी मेडिसिन (GUM) क्लिनिक या सेक्स संबंधी जागरूकता के लिए काम कर रही किसी संस्था से भी मुफ्त में कंडोम ले सकते हैं।

ओरल और ऐनल सेक्स में कंडोम की कोई जरूरत नहीं
कंडोम के इस्तेमाल का उद्देश्य न सिर्फ प्रेग्नेंसी को रोकना है, बल्कि सेक्शुअल ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन (STIs) यानी यौन संक्रमणों से भी सुरक्षित रहना है। अगर आप खुद अपने या अपने पार्टनर के संक्रमित होने को लेकर आश्वस्त नहीं हैं तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें।

कंडोम कभी खराब (Expire) नहीं होते
यह गलत है। कंडोम एक्सपायर होते हैं। कंडोम खरीदते वक्त पैकेट को ध्यान से पढ़ें। उसमें उसकी एक्सपायरी डेट दी होती है। कुछ लोग कह सकते हैं कि बिना कंडोम के सेक्स करने से बेहतर है पुराना कंडोम इस्तेमाल करें। ऐसी सलाह से सावधान रहें, क्योंकि इससे शरीर पर चिकत्ते हो सकते है। एक प्रकार की चिड़चिड़ाहट भी हो सकती है। लचीलापन जाने की वजह से कंडोम आसानी फट सकता है। नया पैकेट खरीदने और कंडोम को सही ढंग से लगाने से पहले बेड पर जाने की जल्दबाजी न दिखाएं।

कंडोम असुविधाजनक होते हैं और कम आनंद देते हैं
कई अध्ययनों में बताया गया है कि यह सच नहीं है। लोगों को इसका इस्तेमाल करते हुए भी उतना ही आनंद का एहसास हुआ है जितना की इसके बिना। हालांकि कुछ कंडोम इस तरह डिजाइन किए जाते हैं जिससे ऑर्गेजम तक पहुंचने में देरी हो, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इससे सेंसिटिविटी भी कम हो जाती है। अगर कुछ असुविधाजनक है तो वह हैं गर्भपात या STI का उपचार।

महिला ने गर्भनिरोधक गोली (पिल) ली है तो कंडोम की जरूरत नहीं
इस पर डॉक्टर राजिन्दर का कहना है, ‘गोली लेने से STI से सुरक्षा नहीं मिलती और प्रेग्नेंसी रोकने को लेकर भी गोलियों के काम नहीं करने के प्रमाण हैं।’ यानी इस मिथक से भी आपको बचना चाहिए।
दो कंडोम लगाना ज्यादा सुरक्षित है
केवल एक कंडोम का इस्तेमाल ही अनचाहे गर्भ और यौन संक्रमणों से बचने के लिए काफी है। दरअसल दो कंडोम लगाने से घर्षण की संभावना बढ़ेगी। कंडोम फट भी सकते हैं।

आप ‘शरीफ’ व्यक्ति के साथ हैं, कंडोम की जरूरत नहीं
ऐसा नहीं है कि यौन संक्रमण केवल उन लोगों को होता है जो कई लोगों से संबंध बनाते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि यौन संक्रमण किसी भी व्यक्ति को हो सकते हैं, कभी-कभी बिना लक्षण बताए भी।

चिकनाहट के लिए कोई भी तैलीय पदार्थ यूज कर सकते हैं
अधिकतर कंडोम इस्तेमाल के लिए पर्याप्त रूप से चिकने होते ही हैं। अगर आपको और चिकनाहट की जरूरत हो तो पानी या सिलिकन से बनी किसी वस्तु का इस्तेमाल करें। तेल से बनी किसी वस्तु का इस्तेमाल न करें। तेल रबर को नष्ट कर देता है जिससे कंडोम फट सकता है।

सेक्स के बीच या स्खलन से ठीक पहले लगा सकते हैं

ऐसा करना न सिर्फ असुविधानजनक होगा बल्कि इससे संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाएगा।

एक बार ही कंडोम पहनें, चाहे दो राउंड में सेक्स करें

यह गलत है। हर स्खलन में स्पर्म का स्राव होता है।

कहीं भी स्टोर करें
कंडोम को बहुत ज्यादा या बहुत कम तापमान वाली जगह पर स्टोर करके नहीं रखना चाहिए। ऐसी जगह (उदाहरण के लिए आपकी जेब) जहां घर्षण होता हो, कंडोम को नुकसान हो सकता है। इससे स्पर्म के कंडोम से बाहर निकलने का खतरा बढ़ जाता है।
लेटेक्स (क्षीर) से ऐलर्जी होने पर यूज नहीं कर सकते
ऐसा नहीं है। लेटेक्स से ऐलर्जी होना आपको सेक्स नहीं करने या असुरक्षित सेक्स करने पर मजबूर नहीं करता। इस समस्या से बचने के लिए मार्केट में लेटेक्स कंडोम उपलब्ध हैं जिनका इस्तेमाल किया जा सकता है। इनमें लैंब्स्किन से बने कंडोम प्रेग्नेंसी तो रोकते हैं, लेकिन संक्रमण से बचाव नहीं करते।

केवल हेटरोसेक्शुअल ही इस्तेमाल करते हैं
यह हमेशा याद रखें, कि कंडोम प्रेग्नेंसी ही नहीं रोकते बल्कि संक्रमणों से भी बचाव करते हैं। इसलिए होमोसेक्शुअल कपल को भी इनकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए


क्या आपको पता है महिलाओं के लिए भी होते हैं कंडोम! जानिए उनका इस्तेमाल


क्या आपको पता है महिलाओं के लिए भी होते हैं कंडोम! जानिए उनका इस्तेमाल
क्या आप जानते हैं कि मार्केट में महिलाओं के लिए भी कंडोम मौजूद है। क्या आपने कभी सोचा है कि महिलाओं का कंडोम कैसा दिखता है। एक सर्वे के मुताबिक अमेरिका में लगभग 91 फीसदी महिलाएं सेक्स के दौरान फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करती हैं। आपको बता दें कि फीमेल कंडोम मार्केट में आने के बाद से ही महिलाओं द्वारा काफी पसंद किया गया है। लेकिन इसे कैसे प्रयोग करें यह बहुत कम लोगों को पता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह पुरुष कंडोम से भी अधिक असरदायक और मजेदार होता है। आज हम आप को दिखाते हैं कि महिलाओं का कंडोम कैसे उपयोग किया जाता है और उसके फायदें क्या हैं।

क्या है फीमेल कंडोम
फीमेल कंडोम का प्रयोग प्रेगनेंसी और अन्य यौन संबंधी रोगों से बचने के लिए किया जाता है। फीमेल कंडोम एक लंबी थैली जैसा होती है जिसके दोनों छोर लचीले होते हैं और एक छोर पर रिंग होती है जो लगाने के बाद योनि के बाहर रहता है। इसे पहनने से महिलाओं का गुप्तांग पूरी तरह कवर हो जाता है और सेक्स के बाद स्पर्म इसी में इकठ्ठा होते हैं। फीमेल कंडोम के मेल कंडोम की तरह ही प्रेगनेंसी की प्रॉब्लम नहीं होती।
कैसे करें फीमेल कंडोम का इस्तेमाल
सबसे पहले इसे पहनने के लिए ऐसी जगह पर जाइये जहां इसे आसानी से पहना जा सके। फीमेल कंडोम को खड़ा होकर पहनना सबसे आसान माना जाता है। शुरूआती दिनों में फीमेल कंडोम का प्रयोग थोड़ा मुश्किल भरा होता है लेकिन धीरे-धीरे यह आसान हो जाता है और यह पुरुष कंडोम से भी अधिक असरदायक और मजेदार होता है।


तो इसलिए महिलाओं को कंडोम का इस्तेमाल अच्छा नहीं लगता...



ज़्यादातर लोग सेफ शारीरिक संबंध के लिए कंडोम का इस्तेमाल करते है। सभी जानते हैं कि कंडोम बेहद जरूरी है। इससे एचआईवी का संक्रमण रोका जा सकता है। लेकिन ज़्यादातर महिलाओं को इसका इस्तेमाल अच्छा नहीं लगता और इसके कई कारण भी है। आइये उन कारणों पर नज़र डाल लेते है


@ चरम सुख नहीं मिलना:- कई लडकियां इस बात की शिकायत करती है की अगर उनके पार्टनर कंडोम पहनते हैं तो उन्हें चरम सुख नहीं मिलता। औरतों को इसी वजह से प्यार के बीच में कंडोम पसंद नहीं आता। उन्हें स्किन से स्किन का कांटेक्ट ज़्यादा पसंद होता है।


@ सुगंध:- कई लडकियां अपने पार्टनर से इस बात पर खफा हो जाती हैं क्योंकी उन्हें कंडोम की सुगंध पसंद नहीं आती।




@ एलर्जी:- ज़्यादातर देखा गया है की कंडोम से संबंध बनाने के बाद महिलाओं को एलर्जी हो जाती है। वह अपने प्राइवेट पार्ट में जलन होने की शिकायत करती है और साथ ही दर्द भी होता है न।



@ फटने का डर:- महिलाओं को कांडों फटने का डर भी सताता है। कई बार ऐसा हुआ हैं की संबंध बनाने के दौरान कंडोम फट जाता है।


हैरान हो जाएंगे यह जानकर कि कंडोम को बनाते समय कौन सा तेल का प्रयोग किया जाता है


दोस्तों कंडोम एक ऐसी चीज है जिसका दुनिया में ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है। मगर कंडोम से जुड़ी बहुत सी ऐसी बातें हैं जो शायद आप लोगों को नहीं पता होगी। कंडोम का प्रयोग करने से हमें सुरक्षा का एहसास होता है। और कई रोगों से बचाव भी हो जाता है आज के इस पोस्ट में हम आपको कंडोम से जुड़ी एक ऐसी बात बताने वाले हैं जो शायद आप लोगों को नहीं पता होगी तो चलिए जान लेते हैं।

कंडोम को बनाते समय सिलिकॉन बेस्ड आयल और वाटर बेस्ड ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है। कंडोम दिखने में भले ही पतला लगता हो मगर यह मजबूत प्लास्टिक से बनाया जाता है। वाटर बेस्ड ऑयल कंडोम को मजबूती देने का काम करता है। और सिलिकॉन बेस्ड आयल कंडोम में चिकनाई बनाए रखने का काम करता है। इसलिए कंडोम के ऊपर अलग से कोई चिकनाई वाला पदार्थ भूलकर भी इस्तेमाल में नहीं लेना चाहिए वरना इसके फटने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है।

आप कौन सी कंपनी का कंडोम इस्तेमाल करना पसंद करते हैं कमेंट बॉक्स में जरुर बताइए।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.