Header Ads

पवनमुक्तासन योग की विधि और फायदे


योग मुद्रा
पवनमुक्तासन योग की विधि और फायदे 


पवनमुक्तासन का अर्थ होता है पवन या हवा को मुक्त करना। यह आसन अपने नाम की भांति ही लाभकारी होता है। जब हम इस आसन को करते हैं तब हमारे पेट से गैस और कब्ज के कारण जो वायु जमा होती है वो आसनी से बाहर निकल जाती है। इस आसन को किस प्रकार से किया जाता है और इस आसन के द्वारा हमें क्या फायदा होता है आज हम आप को बताते हैं पवनमुक्तासन योग की विधि और फायदे :
पवनमुक्तासन कैसे करते हैं ?
Image result for पवनमुक्तासन

आइये जानते हैं पवनमुक्तासन योग की विधि

सबसे पहले एक साफ़ स्थान पर चटाई या दरी को बिछा लें। 
इस पर सीधे होकर शवासन में लेट जाएं। 
जब आप सीधे लेट जाते हो तो दाएं पैर के घुटनें को अपनी छाती पर रखें। 
अब अपने दोनों हाथों की अंगुलियाँ एक-दूसरे में डालते हुए अपने घुटनों को पकड़ लें। 
अपने श्वास को बाहर निकालते हुए अपने घुटने को छाती से लगायें एवं सिर को उठाते हुए घुटने से नासिका को स्पर्श करवाएं। 
कुछ सेंकड तक अपने श्वास को बाहर रोकते हुए इसी स्थिति में बने रहें और बाद में अपने पैर को सीधा कर लें। 
अब इसको दूसरे पैर के साथ करें। 
इस क्रिया को चार से पांच बार तक करें। 
अंत में अपने दोनों पैरों के साथ करें, ऐसा करने से आपका एक चक्र पूरा हो जाता है। 
पवनमुक्तासन योग के लाभ या फायदे
Image result for पवनमुक्तासन

पवनमुक्तासन योग के हमें जो लाभ प्राप्त होते हैं, वो कुछ इस प्रकार से हैं… 
जिन लोगों को पेट में गैस की शिकायत होती है, उनके लिए यह बहुत ही लाभकारी सिद्द होता है। 
इसको करने से पाचन प्रणाली मजबूत होती है और हमारा खाना आसानी से पच जाता है। 
इससे पेट फूलना और कब्ज की समस्या से राहत मिलती है। 
इससे पेट के और कमर के स्नायु मजबूत होते हैं। 
इस आसन के दवारा हमारे पैर के सभी अंग सक्रिय होते हैं। 
महिलाओ में मासिक के समय पेट में दर्द होने वाली समस्या से राहत मिलती है। 
यह गठिये, कमर दर्द, ह्रदय रोग और एसिडिटी में बहुत ही फायदेमंद होता है। 
पेट से चर्बी को कम करने के लिए यह बहुत फायदेमंद होता है। 
इसको करने से हाथ, पीठ, कमर और पैर के स्नायु के साथ-साथ हमारा मेरुदंड भी मजबूत होता है। 
Image result for पवनमुक्तासन

पवनमुक्तासन की सावधानियां

पवनमुक्तासन में जो हमें सावधानियां बरतनी चाहिए वो इस प्रकार से हैं… 
जब आप के कमर में दर्द हो तो अपने सिर को उठाकर नासिका को घुटनों के साथ स्पर्श न करवाएं। इसमें पैरों से छाती को दबाना ही ठीक रहता है । 
खाना खाने के तुरंत बाद इस आसन को नहीं करना चाहिए। 
गर्भवती महिलाओं, हर्निया, उच्च रक्तचाप, गर्दन और पीठ के विकारों आदि वाले रोगों से पीड़ित लोगों को डॉक्टर की सलाह लेकर ही इसका अभ्यास करना चाहिए।
Image result for पवनमुक्तासन

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.