Header Ads

क्या आप अधिक मात्रा में फलों का सेवन कर रहे हैं


क्या आप अधिक मात्रा में फलों का सेवन कर रहे हैं
Too much fruit: शरीर को सही मात्रा में पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए फलों को अपने आहार में शामिन करना अच्छा विकल्प है लेकिन यह भी ध्यान रखें कि इनका एक निश्चित मात्रा में ही सेवन करें।



फलों का अधिक सेवन भी आपको नुकसान पहुंचा सकता है।


Too much fruit: हम सभी जानते हैं कि फलों और सब्जियों का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए जरुरी है। आहार में फलों को सही मात्रा में शामिल करने से आपके शरीर को जरुरी पोषक तत्व मिल जाते हैं। फलों में विटामिन, मिनरल्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो आपके शरीर के लिए अच्छे होते हैं लेकिन किसी भी चीज का अधिक मात्रा में सेवन आपके शरीर को फायदे की जगह नुकसान कर सकता है। फलों के लिए भी यह बात लागू होती है। अधिकतर लोगों का मानना होता है कि फलों का कितना भी सेवन किया जा सकता है, यह शरीर के लिए फायदेमंद ही होगा लेकिन ऐसा नहीं है। फलों में शुगर होती है जो आपके ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकती है। अगर आप अधिक मात्रा में फलों का सेवन कर रहे हैं तो आपको कुछ संकेत दिख सकते हैं। आइए जानते हैं इन संकेतों को। 
Excess eating of fruit: संकेत जो बताते हैं कि आप फलों का अधिक सेवन कर रहे हैं
पेट फूलना
वजन कम नहीं कर पाना
शुगर क्रेविंग
डायरिया
पेट फूलनाफाइबर की अधिक मात्रा डायरिया का कारण बन सकती है।

फलों में फ्रक्टोज की अधिक मात्रा होती है। हम में से बहुत से लोगों का शरीर फ्रक्टोज को सही तरीके से पचा नहीं पाता है इसलिए फलों के अधिक सेवन के कारण गैस या पेट फूलने की समस्या हो जाती है। 
वजन कम नहीं कर पाना
अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन फिर भी वजन नहीं कम कर पा रहे हैं तो इसके लिये फलों का अधिक सेवन जिम्मेदार हो सकता है। फलों में शुगर की काफी मात्रा होती है जिससे ब्लड शुगर बढ़ जाती है। इससे शरीर इंसुलिन रिलीज करता है ताकि शुगर के स्तर को कंट्रोल किया जा सके। इंसुलिन फैट के रुप शुगर को स्टोर कर देता है और इससे आपका वजन बढ़ता है। [

शुगर क्रेविंगशुगर क्रेविंग का कारण फलों का अधिक सेवन भी हो सकता है।

अगर आपको हर समय शुगर क्रेविंग हो रही है तो यह संकेत हो सकता है कि आप फलों का सेवन अधिक कर रहे हैं। फलों में पाए जाने वाले फ्रक्टोज शरीर में घ्रेलिन के स्तर को बढ़ा देते हैं। यह एक भूख बढ़ाने वाला हार्मोन है जिससे आपको शुगर क्रेविंग हो सकती हैं। 

डायरिया
फलों में अन्य पोषक तत्वों के साथ-साथ फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। फाइबर आपके पाचन को बेहतर करता है और बोवेल मूवमेंट्स को बढ़ाता है। इसलिए फलों के अधिक सेवन से आप फाइबर का अधिक सेवन करते हैं जिससे डायरिया की समस्या हो सकती है।

इन संकेतों को पहचानें और सही मात्रा में फलों का सेवन करें। एक दिन में फलों की दो सर्विंग का सेवन आप कर सकते हैं।


क्या है फलों के सेवन करने का उचित समय

फल खाना आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है लेकिन ऐसा तभी है जब आप फलों को उचित समय पर खाएं। अगर आप गलत समय पर फलों का सेवन करते हैं तो इनके पोषक तत्व आपके शरीर को नहीं मिल पाते हैं।




हम सभी जानते हैं कि फल हमारे स्वास्थ्य के लिए कितने आवश्यक हैं। इनके सेवन से हमारे शरीर को जरुरी पोषक तत्व मिलते हैं। साथ ही कई तरह के रोगों से हमारे शरीर को बचाने में मदद करते हैं। आपको लगता होगा कि फल किसी भी रुप में आपके शरीर को नुकसान नहीं पहुंता सकते हैं लेकिन ऐसा तभी होता है जब आप फलों का सेवन सही तरीके और सही समय पर करें। आप सोच रहे होंगे कि फल खाने का भी सही समय होता है क्या। बिल्कुल, अगर आप फलों का सेवन सही समय पर नहीं करते हैं तो आपका शरीर इनके पोषक तत्वों को अवशोषित नहीं कर पाता है। कई बार यह सवाल भी होता है कि खाने के बाद फल खाने चाहिए या नहीं। तो आइए जानते हैं क्या है फलों का सेवन करने का उचित समय। [

भोजन के बाद फलों का सेवन नहीं: कच्चे फल डाइटरी फाइबर से भरपूर होते हैं और इनमें प्राकृतिक शुगर भी मौजूद होती है। इन्हें पचाने और अवशोषित करने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है। जब अन्य खाद्य पदार्थों के साथ फलों का सेवन किया जाता है (जैसे भोजन के बाद) तो पाचन की प्रक्रिया में देरी हो जाती है। इसके कारण आपको पेट फूलने, गैस, जलन और अन्य पाचन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
सुबह में या मिड-मॉर्निंग स्नैक्स के तौर पर करें फलों का सेवन:
फलों का सेवन करने का सबसे उचित समय है दिन की शुरुआत। आप खाली पेट एक गिलास पानी पीकर फलों का सेवन करें। इसके अलावा आप मिड-मॉर्निंग स्नैक्स के तौर पर फल खा सकते हैं। ब्रेकफास्ट और लंच के बीच में फलों का सेवन करने से आप शरीर को उर्जा दे पाते हैं और आपको लंच और ब्रेकफास्ट के बीच में अधिक समय मिल जाता है। साथ ही इस समय फलों से पोषक तत्वों का अवशोषण भी हो पाता है। लंच से एक घंटे पहले फलों का सेवन कर सकते हैं। 

सोने से पहले फलों का सेवन ना करें: रात को सोने के समय से पहले फलों का सेवन करने से बचें क्योंकि फलों में मौजूद शुगर आपके शरीर में उर्जा के लेवल को बढ़ाती है और इसके कारण आप अलर्ट हो जाते हैं जिससे नींद नहीं आती।

जरुरत से अधिक फलों का सेवन भी उचित नहीं:
फलों को अधिक मात्रा में सेवन करना भी उचित नहीं है क्योंकि फलों में भी कैलोरी होती है जो अन्य कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का साथ मिलकर दोगुना हो जाती हैं और आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकती है। जिस तरह अन्य खाद्य पदार्थ फलों को प्रभावी ढंग से पचने से रोकते हैं इसी तरह फलों का अधिक सेवन भी अन्य आहार जैसे सब्जी, साबुत अनाज, मांस और कम वसा वाले डेयरी खाद्य पदार्थ आदि के पोषण अवशोषण को रोक सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.