Header Ads

सोते समय आपका सिर नहीं होना चाहिए इस दिशा में

सोते समय आपका सिर नहीं होना चाहिए इस दिशा में



आप सोते समय कौनसी दिशा में सिर और पैर रखकर सोते है इसका भी आपके जीवन के अच्छे और बुरे समय से लेना देना है। वास्तुशास्त्र में सोने के कुछ नियम बताये है हैं, जिनकी अनदेखी भी कई परेशानियों का कारण बन जाती है।


आज बहुत लोग सोते समय इस बात का ध्यान रखते है की उनका सिर दक्षिण दिशा में हो और पैर उत्तर दिशा में। यह सोने का सबसे अच्छा तरीका है, इससे कई बीमारियां हमसे दूर रहती है।

एक कारण ये भी है की वातावरण में भी चुम्बकीय शक्ति होती है, ये शक्ति दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर प्रवाहित होती है। जब हम दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोते हैं तो यह ऊर्जा हमारे सिर से प्रवेश करती है और पैरों के रास्ते बाहर निकल जाती है, इससे हमारे शरीर में पाजिटिविटी आती है।

इस क्रिया से भोजन आसानी से पच जाता है। सुबह उठने पर हमारा दिमाग शांत रहता है और ताजगी महसूस होती है।

अगर किसी कारणवश दक्षिण दिशा में सिर नहीं रख पा रहे है या ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है तो दूसरी दिशा पूर्व होती है। आप पूर्व दिशा में भी अपना सिर रखकर और पैर पश्चिम दिशा में कर के सो सकते है।


इसके पीछे मान्यता यह है की सुबह सुबह सूर्य पूर्व से ही उदय होता है और हिन्दू धर्म में सूर्य को भगवान् माना जाता है, ऐसे में जब पश्चिम में सिर रखकर सोते है तो हमारे पैर सुबह भगवान् की तरफ होते है, और यह शुभ नहीं माना जाता। ऐसे में सूर्य भगवान् का सम्मान बना रहे, इसलिए पूर्व में सिर करना बेहतर होगा

धनवान बनने के ये 3 आसान उपाय जरूर करके देखें


हर इंसान जीवन में पैसा कमाने के लिए जी तोड़ मेहनत करता है, फिर भी अक्सर ज्यादा मेहनत और इन्तजार के बावजूद सफलता नहीं मिलती।
इसीलिए शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय बताये गए है, जो आपकी सफलता में आ रही अड़चनों को दूर कर सफलता प्राप्त करने में मदद करते है, बशर्तें इन उपायों को सच्चे मन और आस्था से किया जाये। यह उपाय पुरानी मान्यताओं पर आधारित है।

पैसों की समस्या दूर करने के ज्योतिष उपाय

आर्थिक तंगी से परेशान है तो इससे बचने के लिए गुरूवार के दिन तुलसी के पौधे में कच्चे दूध को अर्पित करने से लाभ होता है। यदि यह उपाय गुरु पुष्य नक्षत्र में शुरू किया जाए तो फल जल्दी मिलता है।

गुरु गृह को मजबूत और शुभ बनाने के लिए रोज सवेरे भगवान् शिव को पीली कनेर का फूल चढ़ाना चाहिए, साथ ही – ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः मंत्र का जप करना चाहिए।

गुरूवार को नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी डाल कर नहाएं, नहाने के बाद ॐ नमों भगवते वासुदेवाय नमः का जाप करते हुए केसर का तिलक लगाएं, और यदि संभव हो तो केले के पेड़ में जल चढ़ाते हुए धुप – दीप से पूजा करें।

एक रोटी का
Image result for एक रोटी का

ज़िन्दगी की परेशानियों को दूर करने के लिए रोटी का ये टोटका सबसे आसान ज्योतिष उपाय है।


परेशानियां किसी की भी ज़िन्दगी में आ सकती है, यह जिंदगी का एक हिस्सा है, कई बार हमारे साथ ऐसा होता है जब बनता काम बिगड़ जाता है, मेहनत के बावजूद असफलता हाथ लगती है और हम उदास हो किस्मत को दोष देने लगते है।

ज्योतिष विज्ञान में ऐसी ही विकट परिस्तिथियों से निपटने के लिए कुछ उपाय बताये गए है, जिन्हें अपनाकर हम विपरीत स्तिथि को भी काफी हद तक अपने अनुकूल बना सकते है।
ज्योतिष में हर समस्या के लिए कठिन उपाय ही नहीं है बल्कि आसान उपाय भी है, यह एक ऐसा आसान उपाय है जिसे करने के कुछ समय में ही आपको आपकी स्तिथि अच्छी होती प्रतीत होगी और किस्मत ठीक होने लगेगी।

यह उपाय आपको सिर्फ एक रोटी से करना है। जब आपके घर में रोटी बने तो पहली रोटी के बनते ही उसे अलग कर लें। इस रोटी को चार भागों में तोड़ लें, और हर भाग पर घी और चीनी या गुड़ रख लें, खीर भी रख सकते है।


अब पहले भाग को गाय को खिला दें और प्रार्थना करें की भगवान आपके सारे कष्ट दूर कर दे। गाय सकारात्मक ऊर्जा का भण्डार होती है, कहते है गाय को रोटी देने से पितृ दोष भी दूर होता है और घर के देवताओं का आशीर्वाद मिलता है।

दूसरा टुकड़ा किसी कुत्ते को खिला दें, याद रखें की कुत्ते को रोटी देने से आपके दुश्मन आपसे दूर भागते है। कुत्ते को रोटी देने से आपका अपने दुश्मनो के प्रति दर मिटता है और व्यक्ति निडर बनता है। शिवमहापुराण में इस भोजन को कुक्करबली कहा गया है।

रोटी का तीसरा टुकड़ा किसी कौए को खिलाएं, इसे काक बलि कहा जाता है कौए को रोटी देते समय बोले की चारों दिशाओं के कौए मेरी बलि स्वीकार करें। कौवे को भोजन देने से पितृ और काल सर्प दोष का नाश होता है, साथ ही अनिष्ट और दुश्मनों का नाश होता है और शनि प्रसन्न होते है।

चौथा टुकड़ा घर पर आये बिखारी को दें दे, ऐसा करने से आपकी किस्मत धीरे धीरे चमकने लगेगी और कष्ट और परेशानियां दूर होंगी।


हर रोज गाय, कौवे, कुत्ते, भिक्षु, चींटी को रोटी देने सभी बिगड़े काम बनने लगते है।

घर में जलाएंगे ये चीजें तो से घर के वास्तुदोष ख़त्म होंगे

Image result for धूनी (धूप)


धर्म के अनुसार घरों में धूनी (धूप) देने की परंपरा काफी प्राचीन है। धूप देने से मन को शांति और प्रसन्नता मिलती है। साथ ही, मानसिक तनाव दूर करने में भी इससे बहुत लाभ मिलता है। घरों में धूनी देने के लिए कई तरह की चीज़ें आती है। आइए जानते है किस चीज़ की धूनी करने से क्या फायदे होते है।

हफ्ते में 1 बार किसी भी दिन घर में कंडे जलाकर गुग्गल की धूनी देने से गृहकलह शांत होता है। गुग्गल सुगंधित होने के साथ ही दिमाग के रोगों के लिए भी लाभदायक है।


रोज़ाना सुबह और शाम घर में कर्पूर और लौंग जरूर जलाएं। आरती या प्रार्थना के बाद कर्पूर जलाकर उसकी आरती लेनी चाहिए। इससे घर के वास्तुदोष ख़त्म होते हैं। साथ ही पैसों की कमी नहीं होती।
पीली सरसों, गुग्‍गल, लोबान, गौघृत को मिलाकर सूर्यास्‍त के समय उपले (कंडे) जलाकर ये सारी सामग्री डाल दें। नकारात्‍मकता दूर हो जाएगी।


घर में सप्‍ताह में एक या दो बार नीम के पते की धूनी जलाएं। इससे जहां एक और सभी तरह के जीवाणु नष्‍ट हो जाएंगे। वहीं वास्‍तुदोष भी समाप्‍त हो जाएगा।

यदी सीढि़यां, टॉयलेट या द्वार किसी गलत दिशा में निर्मित हो गए है तेा सभी जगह 1-1 कपूर की बट्टी रख दें। वहां रखा कपूर चमत्‍कारिक रूप से वास्‍तुदोष को दूर कर देगा।


घर में पैसा नहीं टिकता हो तो रोजाना महाकाली के आगे एक धूपबत्‍ती लगाएं। हर शुक्रवार को काली के मंदिर में जाकर पूजा करें।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.