Header Ads

अजवायन का पानी – मोटापे का दुश्मन ….

अजवायन का पानी – मोटापे का दुश्मन ….
संबंधित इमेज
अजवायन को मसालों का राजा कहा जाता हैं, आयुर्वेद में भी अनेक दवाओ में इसका उपयोग किया जाता हैं। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं अजवायन के ऐसे प्रयोग के बारे में जो मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान से कम नहीं। अजवायन बहुत गर्म होती हैं इसलिए इसको सिर्फ सर्दियों में ही करे, और वो लडकिया बिलकुल ना करे जिनको अभी माहवारी शुरू नहीं हुयी हो। इस प्रयोग से रुके हुए और अनियमित पीरियड्स भी सही होंगे। तो इसको ज़रूर आजमाए।

क्या हैं ये प्रयोग?

अजवायन का पानी मोटापे को भी कम करने के काम आता है। जी हां, यह बात काफी कम लोग जानते हैं कि अजवायन का पानी रोज सुबह खाली पेट पीने से मोटापा प्राकृतिक रूप से कम हो जाता है। अजवायन का पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ता है जिसकी वजह से कार्ब तथा फैट बर्न होने की प्रक्रिया शुरु हो जाती है। तो अगर आप भी अपने बढ़ते हुए वजन से परेशान है तो, कुछ दिनों तक इस नुस्‍खे को आजमाइये और असर देखिये। वैसे तो आपको इसका असर मात्र 15 दिनों में ही दिखने लगेगा पर अगर प्रभावी परिणाम चाहिये तो, 45 दिन लगेंगे। वजन कम होना आपके शरीर के प्रकार पर भी निर्भर करेगा।
कैसे तैयार करें अजवायन का पानी

50 ग्राम अजवायन लें (आप चाहें तो 25 ग्राम भी ले सकते हैं पर 50 ग्राम ज्‍यादा प्रभाव शाली है), अजवायन को 1 गिलास पानी में रातभर के लिये भिगो कर छोड़ दें और फिर सुबह पानी को छान लें। उसके बाद पानी में आधा चम्मच निम्बू निचोड़ कर डाल लीजिये, 1 चम्‍मच शहद मिक्‍स करें और सुबह खाली पेट पी लें। यदि आप चाहें तो उसी अजवायन को धूप मे सुखा कर फिर से दूसरे दिन भी प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन तीसरे दिन आपको नयी अजवायन का प्रयोग करना होगा।

ध्यान दे इन बातो का
मोटापे के लिए अच्‍छा रिजल्‍ट पाने के लिये कुछ जरुरी बातों का पालन करें-चावल पूरी तरह से छोड़ दें, रोटियों का संख्‍या घटा दें। मतलब अगर आप दो राटी खाते हैं तो उसे आधा कर दें, आलू, शक्‍कर, फास्‍ट फूड और ऑइली फूड ना खाएं, भोजन करने के एक घंटे तक पानी ना पियें। यह उपचार उन महिलाओं के लिये खास है जिन्‍हें पीरियड्स की समस्‍या है और जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ जाता है।

मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान – अजवायन।

अजवायन को मसालों का राजा कहा जाता हैं, आयुर्वेद में भी अनेक दवाओ में इसका उपयोग किया जाता हैं। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं अजवायन के ऐसे प्रयोग के बारे में जो मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान से कम नहीं। अजवायन बहुत गर्म होती हैं इसलिए इसको सिर्फ सर्दियों में ही करे, और वो लडकिया बिलकुल ना करे जिनको अभी माहवारी शुरू नहीं हुयी हो। इस प्रयोग से रुके हुए और अनियमित पीरियड्स भी सही होंगे। तो इसको ज़रूर आजमाए।
मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान – अजवायन। के लिए इमेज परिणाम
क्या हैं ये प्रयोग।
अजवायन का पानी मोटापे को भी कम करने के काम आता है। जी हां, यह बात काफी कम लोग जानते हैं कि अजवायन का पानी रोज सुबह खाली पेट पीने से मोटापा प्राकृतिक रूप से कम हो जाता है। अजवायन का पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ता है जिसकी वजह से कार्ब तथा फैट बर्न होने की प्रक्रिया शुरु हो जाती है। तो अगर आप भी अपने बढ़ते हुए वजन से परेशान है तो, कुछ दिनों तक इस नुस्‍खे को आजमाइये और असर देखिये। वैसे तो आपको इसका असर मात्र 15 दिनों में ही दिखने लगेगा पर अगर प्रभावी परिणाम चाहिये तो, 45 दिन लगेंगे। वजन कम होना आपके शरीर के प्रकार पर भी निर्भर करेगा।
कैसे तैयार करें अजवायन का पानी
Healths Is Wealth  
मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान – अजवायन। के लिए इमेज परिणाम
50 ग्राम अजवायन लें (आप चाहें तो 25 ग्राम भी ले सकते हैं पर 50 ग्राम ज्‍यादा प्रभाव शाली है), अजवायन को 1 गिलास पानी में रातभर के लिये भिगो कर छोड़ दें और फिर सुबह पानी को छान लें। उसके बाद पानी में आधा चम्मच निम्बू निचोड़ कर डाल लीजिये, 1 चम्‍मच शहद मिक्‍स करें और सुबह खाली पेट पी लें। यदि आप चाहें तो उसी अजवायन को धूप मे सुखा कर फिर से दूसरे दिन भी प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन तीसरे दिन आपको नयी अजवायन का प्रयोग करना होगा।
ध्यान दे इन बातो का
मोटापे के लिए अच्‍छा रिजल्‍ट पाने के लिये कुछ जरुरी बातों का पालन करें-चावल पूरी तरह से छोड़ दें, रोटियों का संख्‍या घटा दें। मतलब अगर आप दो राटी खाते हैं तो उसे आधा कर दें, आलू, शक्‍कर, फास्‍ट फूड और ऑइली फूड ना खाएं, भोजन करने के एक घंटे तक पानी ना पियें। यह उपचार उन महिलाओं के लिये खास है जिन्‍हें पीरियड्स की समस्‍या है और जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ जाता है।

मोटापे से बचने के लिए आहार नियंत्रण।
मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान – अजवायन। के लिए इमेज परिणाम
अगर आप चाहते हैं के आप मोटापे पर नियंत्रण कर के उसको कम कर दे तो आपको अपने आहार पर पूरा नियंत्रण करना होगा। ऐसे में कुछ चीजे हैं मोटापे पर कंट्रोल करने में रामबाण सिद्ध होंगी। तो आइये जाने ये क्या हैं।

मोटापे से परेशान लड़कियों के लिए वरदान – अजवायन। के लिए इमेज परिणाम
1. हैवी डिनर कभी ना ले। रात में सिर्फ सोना ही होता हैं। तो भोजन पेट में पड़ा रहता हैं और मोटापे को बढ़ाने का काम करता हैं। इसलिए कोशिश करे जितनी भूख हो उस से कम ही खाए।
2. रात को खाना हमेशा ३-४ घंटे पहले कर ले। और रात को खाने में कभी दाल, चावल, राजमा, दही, छोले आदि ना खाए। रात में पाछाँ क्रिया धीमी होने से ये जल्दी पचते नहीं।
3. कोल्ड ड्रिंक्स की जगह नारियल पानी, वेजिटेबल सूप, नीम्बू पानी, मट्ठा पिए।
4. वजन घटाने के लिए फाइबर ज़्यादा खाएं, इसके लिए खूब सारे फल व् सब्जिया खाए।
5. चीनी और चीनी से बनी मिठाई कम खाए।
6. दूध और दही बिना मलाई का पिए। और हो सके तो गाय का दूध और गाय के दूध से बना दही खाए।
7. प्रतिदिन 2-३ लीटर पानी पियें। खाने के साथ व् खाने के तुरंत बाद पानी ना पियें। खाने के डेढ़ घंटे के बाद ही पानी पियें। भोजन के साथ मक्खन निकली हुयी छाछ ले सकते हैं।
8. कभी भी शॉपिंग खाली पेट ना जाए, बाजार में फ़ास्ट फ़ूड देख कर मन कर जाएगा खाने का और करी कराई म्हणत खराब हो जाएगी।
9. डाइनिंग टेबल पर अंकुरित अनाज और अंकुरित दाले रखे। जब भी कुछ खाने का दिल करे तो बिस्कुट, पेस्ट्री, कुकीज़, स्नैक्स की जगह अंकुरित अनाज या दाल खाए। इनमे स्वाद बढ़ाने के लिए शहद मिला कर खाए।
10. गुड चीनी शक्कर बूरा खांड चुकंदर गन्ने का रस मीठे फल सूखे मेवे ना खाए या सिमित मात्रा में ही सेवन करे। ६० ग्राम से अधिक सेवन ना करे। पानी प्रयाप्त मात्रा में पियें।
11. बीयर, शराब आदि ना पिए, इनसे कोलेस्ट्रॉल बढ़ता हैं और कोलेस्ट्रॉल से मोटापा।


बादाम से मिलने वाले स्वास्थय लाभ

Healths Is Wealth  
बादाम सबसे ज्यादा खाये जाने वाले ड्राई फ्रूट्स में से एक है । वो इसलिये क्योकि बादाम का स्वाद भी बहुत विशिष्ट होता है और बादाम के गुण भी बहुत ही ज्यादा विशिष्ट होते हैं। बादाम मुख्यतः दो स्वाद में आता है मीठा और कड़वा । मीठा बादाम तो खाने का काम आता है और कड़वा बादाम तेल निकालने के लिये प्रायः प्रयोग में लाया जाता है। दोनों ही तरह का बादाम हमको बाजार में आसानी से मिल जाता है। प्रकाशित आयुर्वेद के माध्यम से इस पोस्ट में पढ़िये बादाम से मिलने वाले प्रमुख स्वास्थय लाभों के बारे में ।

1:- दिमाग के लिये लाभ:- बादाम को दिमाग के लिये बहुत ही उत्तम माना जाता है। बादाम में उपलब्ध विटामिन ई दिमाग की क्रियाशीलता को बढ़ाता है और दिमाग को सुचारू रूप से काम करने में मदद करता है। बदाम में जिंक धातु पायी जाती है जो दिमाग की कोशिकाओं की रक्षा करती है साथ ही साथ बादाम में उप्लब्ध विटामिन बी-6 दिमाग की खराब कोशिकाओं की मरम्मत करता है। इसके अतिरिक्त गाय के दूध के साथ बादाम खाने से याद रखने की क्षमता बढ़ती है। कुछ रिसर्च में बादाम को बढती उम्र के साथ होने वाले मेमोरी लॉस की अवस्था को नियंत्रित करने में भी लाभकारी पाया गया है। इन सब दिमागी लाभ उठाने के लिये रोज 3-7 बादाम उम्र के अनुसार खाने चाहियें।
.बादाम से मिलने वाले गर्भावस्था स्वास्थ्य लाभ के लिए इमेज परिणाम
2:- गर्भावस्था में पोषण:- गर्भवती महिलायें यदि रोज 3-4 बादाम का सेवन करें तो खुद उनको भी और गर्भस्थ शिशु को भी पोषण प्राप्त होता है। बादाम गर्भस्थ शिशु के अच्छे विकास में बहुत लाभ करता है। साथ ही साथ बादाम में फोलिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो हर गर्भवती स्त्री के लिये परम आवश्यक होता है । अतः गर्भवती स्त्रियॉ अपने डॉक्टर की सलाह से बादाम का सेवन जरूर करें ।Healths Is Wealth  
बादाम से मिलने वाले गर्भावस्था स्वास्थ्य लाभ के लिए इमेज परिणाम.
3:- मधुमेह का नियंत्रण:- बादाम मधुमेह अर्थात शुगर को नियंत्रित करता है और मधुमेह के अन्य लक्षणों को भी कन्ट्रोल करता है। बादाम में पाये जाने वाले अच्छा फाईबर और अन्य खनिज शरीर में ग्लूकोज़ को नियंत्रित करते हैं । ऐसा माना जाता है कि यदि भोजन से 15 मिनट पहले 2-3 बादाम की गिरी खायी जायें तो यह भोजन खाने से बनने वाले ग्लुकोज़ की मात्रा को नियंत्रित कर देता है ।
बादाम से मिलने वाले गर्भावस्था स्वास्थ्य लाभ के लिए इमेज परिणाम.
4:- कोलेस्ट्रॉल का नियंत्रण:- रोजाना बादाम खाने से यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है। बादाम अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है और इसके विपरीत खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है । ऐसा इसलिये क्योकि बादाम में पोलि-सैचुरेटड और मोनो-सैचुरेटड फैट अच्छी मात्रा में पाया जाता है।
.
5:- हृदय को मजबूत करे:- बादाम में ऐसे कई तत्व होते हैं जो हृदय को मजबूती देते हैं । जैसे कि बादाम में मैगनीज तत्व पाया जाता है जो रक्त के प्रवाह को और ऑक्सीजन की सप्लाई को सम्पूर्ण शरीर में सुचारु करता है । जिस कारण से यह ब्लड-प्रेशर को नियंत्रित करके हर्ट-अटैक के खतरे को कम करता है। बादाम में बहुत अच्छी मात्रा में मोनो-सैचुरेटड फैट पाये जाते हैं और विटामिन ई भी पाया जाता है ये दोनों ही हृदय के लिये बहुत ही ज्यादा लाभकारी माने जाते हैं।
बादाम से मिलने वाले गर्भावस्था स्वास्थ्य लाभ के लिए इमेज परिणाम.
6:- वजन कम करने में सहायक:- इसको पढ़कर आप सोच रहे होंगे कि शायद मैंने गलती से ये टाईप कर दिया । लेकिन ये बात सही हो सकती है बस बादाम को सही युक्तिपूर्वक प्रयोग किया जाना चाहिये । बादाम में पोषण का बहुत प्रचुर भण्डार होता है । बादाम में उप्लब्ध फाईबर, मोनो-सैचुरेटड फैट, प्रोटीन आदि अवयव शरीर की पोषण की माँग को काफी हद तक पूरा कर देते हैं जिस कारण आप भोजन के साथ अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करने से बच जाते हैं। यदि आप वजन घटाने के लिये किसी डाईटिशियन की सेवा ले रहे हैं तो इस बारे मे जरूर बात करें ।
7:- पाचनतंत्र में लाभ:- बादाम का असर पाचन तंत्र के कुछ भागों पर पाया गया है । जब हमारे भोजन में फाईबर की मात्रा कम होती है तो कब्ज होने लगता है । चूंकि बादाम में फाईबर की अच्छी मात्रा होती है तो यह कब्ज में बहुत लाभ करता है। इसके अतिरिक्त यह ऑतों की गति को ताकत भी देता है । बादाम में तेल भी अच्छी मात्रा में ही होता है जिस कारण यह पेट में ज्यादा एसिड बनने के कारण होने वाली जलन में सेवन किये जाने पर एसिड को उदासीन करके पेट, सीने और हृदय की जलन को शांत करता है। ऐसे रोगियों को रोज 4-5 बादाम का सेवन करना चाहिये ।
बादाम से मिलने वाले गर्भावस्था स्वास्थ्य लाभ के लिए इमेज परिणाम.
8:- हड्डियों की मजबूती:- बादाम में फॉसफोरस और कैल्शियम पाया जाता है। ये दोनो ही तत्व हड्डियों की सेहत और मजबूती के लिये बहुत ही जरूरी होते हैं। इनके अतिरिक्त बादाम में मौजूद मैगनिशियम, मैगनीज और पोटाशियम भी हड्डियों को मजबूत करने में बहुत लाभ करते हैं। बादाम का बढ़ती उम्र में नियमित सेवन हड्डियों के खोखला होने (ऑस्टियोपोरोसिस) की अवस्था को दूर रखने में मदद करता है।
.
9:- बालों की समस्यायें:- रूसी खुश्कि हो या बालों का झड़ना, सिर में खुजली हो या बाल बेजान बादाम सभी अवस्थाओं में लाभ करता है। बादाम में बालों के लिये लाभकारी पोषण जैसे कि विटामिन ई, बायोटिन, मैगनीज़, कॉपर और जरूरी फैटि-एसिड पाये जाते हैं । साथ ही बादाम में मौजूद जस्ता नये बालों की ग्रोथ में मदद करता है । बादाम का तेल तो बालों के लिये बहुत ज्यादा प्रयोग किया ही जाता है क्योकि बादाम के तेल से बालों में मालिश करने से रूसी खत्म होती है और बालों में चमक भी आती है। खास बात ये कि पतले और बेजान बालों में 30-60 दिन के अंदर ही पर्क महसूस होने लगता है। बालों का टूटना और दो-मूँहा होने की समस्या में भी राहत मिल जाती है।


पतले बालों को घना बनाने के 9 घरेलू उपाय |


हर किसी की चाहत होती है कि उसके बाल लंबे, घने और चमकीले हों, लेकिन आहार में पोषक तत्‍वों की कमी और हार्मोंन के असंतुलन के कारण बाल पतले हो जाते हैं, लेकिन घबराएं नहीं, यहां दिये गये घरेलू उपाय आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।
.Healths Is Wealth  
1 पतले बालों की समस्‍या
बालों की झड़ने के साथ-साथ बालों के पतले की समस्‍या भी आजकल बहुत आम हो गई है। पतले बाल की समस्‍या कई कारणों से हो सकती हैं, जैसे बालों की ठीक से देखभाल न करना, हार्मोंन का असंतुलन होना या फिर आहार में पोषण तत्‍वों की कमी आदि। अगर आपके बाल भी पतले हो गए हैं और बालों में किसी भी प्रकार का हेयरस्‍टाइल नहीं जंचता। तो कुछ घरेलू उपाय आपकी इस समस्‍या को दूर करने में मददगार साबित हो सकते हैं। आइए ऐसे ही कुछ घरेलू उपचारों के बारे में जानते हैं जिनकी मदद से आप अपने पतले बालों को लंबा, घना और सुंदर बना सकते हैं।
.
2 फायदेमंद है आंवला
पतले बालों के लिए आंवले से अच्‍छा कुछ और हो ही नहीं सकता। यह बालों को मोटा, घना औार काला बनाता है। आंवला में एन्टीऑक्सीडेंट और विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है, इसलिए इसको न सिर्फ लगाने से बल्कि खाने से भी बालों के स्वास्थ्य को लाभ पहुंचते है। अगर आपको बालों को मोटा बनाना है तो नहाने से पहले बालों में आंवले का रस और नींबू का रस मिला कर लगाइये। इसके लिए आप दो चम्मच नींबू के रस में दो चम्मच आंवले का रस मिलाकर मिश्रण बना लें। फिर इस मिश्रण को सिर पर लगायें और सूखने के बाद गुनगुने पानी से धो लें।
.
3 छोटे से दाने के बड़े गुण
मेथी में बड़ी मात्रा में मौज़ूद प्रोटीन, निकोटिनिक एसिड और लेसीथीनरी बालों को जड़ों से मजबूत बनाने और गंभीर समस्याओं के इलाज में बहुत कारगर है। एक चम्मच मेथी के पेस्ट में दो चम्मच नारियल तेल मिलाएं और बालों में 30 मिनट तक लगाकर रखें। फिर इसे शैंपू से साफ कर लें। ऐसा 1 महीने तक लगातार करने से बालों में घनापन आने के साथ-साथ बालों का विकास भी होने लगता है।
4 बालों की हर समस्‍या का हल प्याज का रस
प्‍याज का रस पतले बालों की समस्‍या को दूर करने का सबसे अच्‍छा घरेलू उपाय है। प्याज के रस में सल्फर अच्छी मात्र में है जो शरीर में कोलाजेन की मात्रा बढ़ाता है जिससे बाल घने होते हैं। प्याज का रस निकालकर इसे बालों पर 15 मिनट तक लगाएं और फिर शैंपू से बाल साफ करें।
.
5 नारियल तेल के अद्भुत गुण
नारियल का तेल बालों में पूरी तरह अवशोषित हो कर हर एक बाल को पोषण देता है। यह प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाकर, बालों को नमी प्रदान करता है। आपने बालों को झड़ने से रोकने और उन्हें घना बनाने के लिए आप नारियल का तेल उपयोग में ला सकते हैं। नारियल के तेल को रोजाना अच्छी तरह अपने बालों में लगाएं। यह बालों के रेशे को मजबूत और चमकदार बनाता है। इसके अलावा 4 चम्‍मच नारियल के तेल में 2 चम्‍मच नींबू का रस मिलाकर लगाना पतले बालों की समस्‍या के लिए बहुत अच्‍छा उपचार है।
6 बालों के लिए संजीवनी है एलोवेरा
एलोवेरा बालों के लिए संजीवनी के समान काम करता है। यह ना सिर्फ आपके बालों को खूबसूरत और चमकदार बनाता है बल्कि बालों की जड़ों को मजबूत करता है और बालों में जान डालने के लिए भी कारगर है। पतले बालों की समस्‍या से बचने और बालों को खूबसूरत बनाने के लिए एलोवरा जेल को सिर में लगाएं और आधे घंटे रखने के बाद सिर धो लें। ताजे एलोवेरा जैल को बालों की बनावट में सुधार करने के लिए कंडीशन के रूप में भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है।
.
7 मेंहदी के पत्ते भी फायदेमंद
अगर आप पतले बालों को प्राकृतिक रुप से घने करना चाहते हैं, तो अपने बालों में मेंहदी लगाएं (इसे मेंहदी के पत्तों को पीसकर बनाते है)। मेंहदी को लगाकर अपने बालों को शावर कैप से ढंक लें और लगभग 3 घंटों के बाद अपने बालों को धोएं। या मेंहदी पाउडर में 3 से 4 बड़े चम्मच नीम पाउडर, दही के 2 बड़े चम्मच, कॉफी पाउडर का 1 बड़ा चम्मच, काली चाय और नींबू एक साथ मिलाएं। उन्हें अच्छी तरह से मिलाकर पूरे सिर की त्वचा पर लगायें। 30 मिनट या उससे अधिक के लिए छोड़ दें और फिर बालों को धो लें।
.
8 ऑलिव ऑयल
अगर आपके बालों में पतलेपन की समस्‍या है और कोई उपचार काम नहीं आ रहा है तो बालों में ऑलिव ऑयल से हफ्ते में केवल एक बार मसाज करें। ऑलिव ऑयल आपके डैमेज बालों को दुबारा से मजबूती प्रदान करेगा क्‍योकि यह एक अच्‍छा कंडीशनर है। अगर आप हमेशा ऑलिव ऑयल का प्रयोग करती हैं तो शैम्‍पू के बाद आपको कंडीशनर की जरुरत नहीं पडेगी। ऑलिव ऑयल का इस्‍तेमाल करने से बालों से गंदगी को दूर करने और बालों की बनावट में सुधार करने में मदद मिलती है।
.
9 बालों के लिए जादुई सिरका
सेब का सिरका बालों के लिए जादू का काम करता है। सिरके को पानी और ऐलोवेरा जेल के साथ मिक्‍स कर के लें और नहाने से आधा पोना घण्टे पहले बालों पर अच्छे से मालिश करें


पालक अपनाएँ सिर पर लहलहाते बाल पाएं।

Healths Is Wealth  
पालक अपनाएँ सिर पर लहलहाते बाल पाएं। के लिए इमेज परिणामपालक में विटामिन ए बी सी आयरन कैल्शियम एमिनो एसिड तथा फोलिक एसिड अधिक पाया जाता है। गुणों के मामले में पालक का शाक सब शाकों से बढ़ चढ़कर है। इसका रस यदि पीने में अच्छा न लगे तो इसके रस में आटा गूंथकर रोटी बनाकर खानी चाहिए। पालक रक्त में लाल कण बढ़ाता है। कब्ज दूर करता है। पालक, दाल व् अन्य सब्जियों के साथ खाएं।
पालक की प्रकृति।
पालक की प्रकृति पाचक, तर और ठंडी है। पालक में दालचीनी डालने से इसकी प्रकृति बदल जाती है, और पालक को पकाने से भी इसके गुण नष्ट नहीं होते।
शरीर क्रिया विज्ञान – फिसिओलॉजी में पालक का महत्व।
सम्पूर्ण पाचन तंत्र की प्रणाली (पेट, छोटी बड़ी आंते) के लिए पालक का रस सफाई कारक एवं पोषण करता है। कच्चे पालक के रस में प्रकृति ने हर प्रकार के शुद्धिकारक तत्व रखे है। पालक संक्रामक रोग तथा विषाक्त कीटाणुओं से उप्तन्न रोगों से रक्षा करता है। पालक में पाया जाने वाला विटामिन ए म्यूकस मेम्ब्रेन्स की सुरक्षा के लिए उपयोगी है।
पालक अपनाएँ सिर पर लहलहाते बाल पाएं। के लिए इमेज परिणाम

गिरते बालों को रोकने के लिए पालक।
कच्चा पालक खाने से कड़वा और खारा ज़रूर लगता है, परन्तु ये गुणकारी होता है। पालक में विटामिन ए विशेष मात्रा में होता है, जो सिर के बालों के लिए अत्यंत ज़रूरी होता है। जिसके सिर के बाल झड़ते हों, उन्हें प्रतिदिन कच्चे पालक का सेवन करना चाहिए, जिससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है।
जिन लोगों को पालक खाने से पथरी बनती है वो पालक और हरे पत्ते वाली मेथी मिलाकर साग बनाकर खाएं तो पथरी नहीं बनेगी।


दालचीनी से मिलने वाले स्वास्थय लाभ

दालचीनी से मिलने वाले स्वास्थय लाभ के लिए इमेज परिणाम
भोजन और औषधि दोनो ही रूपों में दालचीनी के प्रयोग का एक बहुत पुराना इतिहास है। हमारे प्रयोग में आने वाली दालचीनी वस्तुतः दालचीनी के पेड की छाल होती है जो बाजार में आसानी से मिल जाती है। विश्व में दालचीनी की एक सौ से भी अधिक किस्में पायी जाती हैं। ताजी दालचीनी की छाल में एक विशेष सुगंधित उड़नशील तैल होता है जो दालचीनी से मिलने वाले अधिकतर स्वास्थयलाभ देता है। प्रकाशित आयुर्वेद के माध्यम से इस पोस्ट में पढिये दालचीनी से मिलने वाले कुछ उत्तम स्वास्थ्य लाभों के बारे में।
.
1:- मधुमेह पर नियंत्रण:- दालचीनी के प्रयोग से टाईप-2 के मधुमेह में उत्साहजनक रिजल्ट देखे गये हैं। यह शरीर में इंसुलिन की कार्मुक्ता को बढ़ाता है जिससे शुगर का स्तर कम करने में सहायता मिलती है। इस समस्या में प्रतिदिन किसी भी एक समय लगभग 2 ग्राम दालचीनी पाउडर को गुनगुने पानी के साथ खाइयेगा ।
.दालचीनी से मिलने वाले स्वास्थय लाभ के लिए इमेज परिणाम
2:- हृदय रोगों में लाभ:- दालचीनी में बहुत सी एण्टी-इंफ्लामेटरी गुण पाये जाते हैं जिस कारण से यह हृदय के लिये सेफ्टी गार्ड का काम करती है । आधुनिक समय में जब खानपान का तरीका बदलता जा रहा है और नियमित स्नैक्स आदि के सेवन से शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है तो उस समस्या में दालचीनी का सेवन करने से खराब कोलेस्ट्रॉल की समस्या से राहत मिलती है। और एण्टी-इंफ्लामेटरी गुणों के कारण हृदय की धमनियों की सूजन आदि को भी कम करता है जिससे हृदय को ताकत मिलती है।
.
3- ऑतों की शक्ति बढ़ाये:- दालचीनी में फाईबर, कैल्शियम, और मैगनीज नामक खनिज पाया जाता है । फाईबर और कैल्शियम मिलकर ऑतों की कार्यशक्ति बढाते हैं। फाईबर और कैल्शियम मिलकर ऑतों में आये अतिरिक्त पित्त को उदासीन कर देता है और ऑतों को कैंसर के खतरे से बचा लेता है। यह फाईबर संग्रहणी (I.B.S.) रोग में भी लाभकारी होता है।
.
4:- रक्त का दौरा नियमित करे:- दालचीनी के अंदर मौजूद कौमैरिन नामक तत्व में खून को पतला करने की शक्ति होती है। यह पूरे शरीर में रक्त के दौरे को नियमित करता है। लेकिन ध्यान रखें कि दालचीनी के ज्यादा सेवन से लीवर को नुक्सान सम्भव हो सकता है। एक दिन में 3-4 ग्राम अधिकतम दालचीनी का सेवन किया जाना चाहिये।
.दालचीनी से मिलने वाले स्वास्थय लाभ के लिए इमेज परिणाम
5:- नाड़ी रोगों में लाभ:- दालचीनी में शक्तिशाली एण्टी-इंफ्लामेटरी गुण पाये जाते हैं जिस कारण से यह नसों, नाडियों, और दिमागी तंतुओं को तनाव रहित करता है और बहुत सी नाड़ी जन्य व्याधियों से सुरक्षा देता है। कुछ रिसर्च में दाल्चीनी के प्रयोग से अल्झाइमर,पार्किंसन,जैसी समस्याओं में भी उत्साहजनक परिणाम मिल रहे हैं लेकिन इस बारे मे ज्यादा ब्यौरा मुझे मिल नही पाया है।
.
6:- श्वास प्रणाली में लाभ:- दालचीनी के प्रयोग से श्वास प्रणाली के विभिन्न रोगों जैसे सामान्य सर्दी-जुखाम और फ्लू जैसी समस्याओं में बहुत ही जल्दी लाभ प्राप्त होता है। दालचीनी के पाउडर की चाय बनाकर भी पी जा सकती है। इसके प्रयोग का सबसे अच्छा तरीका इस प्रकार है।
– 2 ग्राम दालचीनी पाउडर और 3-5 ग्राम शहद और 2 मि०ली० सेब का सिरका का मिश्रण तैयार करके आधा कप गुनगुने पानी में घोल कर दिन में 2 बार लिया जाना चाहिये ।
.
7:- जोडों के दर्द में प्रयोग:- जोडों में होने वाले आर्थ्राइटिस के दर्द के जिम्मेदार काइटोकाईंस को घटाता है। जोडों के दर्द में आराम पाने के लिये 2 ग्राम दालचीनी पाउडर को आधा चम्मच शहद और आधा चम्मच अदरक का रस को मिलाकर एक महीना लगातार सेवन करें।
विशेष नोट:- यधपि दालचीनी बहुत ही लाभकारी औषधि है किंतु इतना जरूर ध्यान रखे कि इसका ज्यादा मात्रा में लगातार सेवन करने से लीवर के ऊपर फर्क पड़ता है । अतः एक दिन में इसका सेवन 3-4 ग्राम से ज्यादा ना करें । इसके अतिरिक्त गर्भवती और स्तनपान कराने वाली मातायें-बहनें भी दालचीनी के ये औषधिय प्रयोग अपने चिकित्सक की सलाह से करें।


चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग
चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग के लिए इमेज परिणाम
वजन कम करने के लिए
आज हम आपको रोज़ाना रसोई घर में इस्तेमाल होने वाले ऐसे ही एक खाद्य पदार्थ से गुणों से अवगत कराएंगे, जो है जीरा। वजन कम करने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते, घंटों तक व्यायाम करना, खान-पान कम कर देना और पसंदीदा चीज़ ही ना खा सकना।
जीरा
इसके बाद भी कोई बड़ा बदलाव नहीं हासिल होता उन्हें, लेकिन अब जीरा वजन कम करने में आपकी मदद करेगा। खाने के स्वाद को बढ़ाने वाला जीरा, खासतौर से दाल में डालने वाला जीरा हर किसी को पसंद है। कुछ लोग चावल पकाते समय भी जीरे का प्रयोग करते हैं, क्योंकि इसके खुशबू भी काफी अच्छी लगती है जो पकवान की सुगंध को बढ़ा देती है।
मसाला मात्र नहीं
चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग के लिए इमेज परिणाम

लेकिन खाद्य पदार्थों के गुणों को बढ़ाने वाला मसाला मात्र नहीं है जीरा, इसके गुण तो अनेक हैं। इससे हमारे स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते हैं, जिसमें से विशेष है जीरा के प्रयोग से वजन कम करने की प्रक्रिया। एक ताजा अध्ययन में पता चला है कि जीरा पाउडर के सेवन से शरीर मे वसा का अवशोषण कम होता है जिससे स्वाभाविक रूप से वजन कम करने में मदद मिलती है।
बीमारियों से भी बचाता है
वजन कम करने के साथ साथ यह बहुत सारी अन्य बीमारियों से भी बचाता है, जैसे कोलेस्ट्रॉल कम करता है, हार्ट अटैक से बचाता है, स्मरण शक्ति बढ़ाता है, खून की कमी को ठीक करता है, पाचन तंत्र ठीक कर गैस और ऐंठन ठीक करता है। तो यदि उपरोक्त बताई परेशानी किसी को है, तो रोज़ाना जीरा का प्रयोग भोजन पकाते समय अवश्य करें।
स्वास्थ्य को मिलने वाले लाभ
लेकिन जीरा के प्रयोग से स्वास्थ्य को मिलने वाले जिस खास लाभ की यहां हम बात करने जा रहे है, वह है वजन कम करना, और वह भी मात्र 15 दिनों में। जी हां…. जो काम बड़े से बड़ा प्रयोग करने में अक्षम है, वह जीरा का एक छोटा सा प्रयोग करके दिखाएगा। बस निर्देशानुसार आप इसका प्रयोग करें तो जरूर सफल होंगे।
पहला प्रयोग
चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग के लिए इमेज परिणाम

दो बड़े चम्मच जीरा एक गिलास पानी मे भिगो कर रात भर के लिए रख दें। सुबह इसे उबाल लें और गर्म-गर्म चाय की तरह पियें। बचा हुआ जीरा भी चबा लें। इसके रोजाना सेवन से शरीर के किसी भी कोने से अनावश्यक चर्बी शरीर से बाहर निकल जाती है।
दूसरा प्रयोग
किंतु यदि आपको यह प्रयोग अधिक पसंद ना आए, तो जीरे को खाद्य पदार्थ में अच्छी मात्रा में प्रयोग करें और रोज़ाना इस्तेमाल करें। एक अन्य उपाय के अनुसार आप 5 ग्राम दही में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर यदि इसका रोज़ाना सेवन करें, तो वजन जरूर कम होगा।
तीसरा प्रयोग
Healths Is Wealth  
3 ग्राम जीरा पाउडर को पानी में मिलाएं इसमें कुछ बूंदें शहद की डालें फिर इसे पी जाएं। वेजिटेबल यानि सब्जियों के उपयोग से सूप बनाएं, इसमें एक चम्मच जीरा डालें। या फिर ब्राउन राइस बनाएं इसमें जीर डालें यह सिर्फ इसका स्वाद ही नहीं बढ़ाएगा बल्कि आपका वजन भी कम करेगा।
चौथा प्रयोग

चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग के लिए इमेज परिणाम
अदरक और नींबू दोनों जीरे की वजन कम करने की क्षमता को बढ़ाते हैं। इसके लिए गाजर और थोड़ी सब्ज़ियों को उबाल लें इसमें अदरक को कद्दूकस यानि कि बिल्कुल बारीक कर लें, साथ ही ऊपर से जीरा और नींबू का रस डालें और इसे रात में खाएं।
15 दिनों के पश्चात कम होगा वजन
यदि प्रतिदिन आप बताए गए इन चार उपायों में से दो भी अपना लें, तो यकीनन आपका वजन 15 दिनों के पश्चात कम होता दिखाई देगा। विशेषज्ञों के अनुसार जीरे में मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सीकडेंट चयापचय को बढ़ाता है, जिससे पेट की चर्बी कम करने में मदद मिलती है। यह चर्बी ही तो मोटापे को दावत देती है, जो जीरे के प्रयोग से खत्म की जा सकती है।
अन्य फायदे
इसके अलावा जीरा खाने को पचाने में मदद करता है जिससे गैस कम बनती है। ऐंठन और पेट फूलना ख़राब पाचन की समस्या हैं। जीरा गैस को बनने से रोकता है जिससे पेट और आंतों में अच्छे से खाना पच जाता है।
हार्ट के मरीजों के लिए सही

चुटकी भर ‘जीरा’ से होगा वजन कम, मात्र 15 दिनों के लिए करें ये प्रयोग के लिए इमेज परिणाम
हार्ट के मरीजों के लिए भी बेहद फायदेमंद है यह जीरा, जीरा कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है। इसके साथ ही फैट को शरीर में बनने से रोकता है। इसलिए यह वजन कम करने में मदद करता है साथ ही हार्ट अटैक से भी बचाता है।
अन्य फायदे भी
चलिए यह तो रही सेहत की बात, लेकिन जीरा सौंदर्य भी निखारेगा यह नहीं जानते होंगे आप। दरअसल जीरे में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो आपकी त्वचा पर पड़े विभिन्न दाग-धब्बों को हल्का करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा त्वचा का काला पड़ जाना या मुरझा जाना, आदि समस्याओं को हल भी जीरे के कुछ घरेलू नुस्खों से हासिल किया जा सकता है।
त्वचा के लिए फायदेमंद
जीरे में विटामिन ‘ई’ पाया जाता है, जो त्वचा के लिए काफी लाभदायक होता है। इसके अलावा जीरे में कुछ ऐसे तत्व भी मौजूद होते हैं जो त्वचा को संक्रमण रहित बनाते हैं। यदि किसी के चहरे पर कोई दाग-धब्बे, पिंपल या किसी प्रकार का कोई इंफेक्शन हो गया हो, तो थोड़ा-सा जीरा पीसकर किसी भी फेस पैक में मिलाकर लगा लें, जल्द से जल्द आराम मिलेगा।
जवान बनाता है
लेकिन जीरे के प्रयोग से मिलने वाला एक और फायदा आपको चौंका कर रख देगा। इसके प्रयोग से आप सौंदर्य को निखार सकते हैं, यह आपको जवान बना सकता है।
संक्रमणों को काटता है
जी हां…. जिस प्रकार से जीरे में मौजूद विटामिन ई तमाम तरह के त्वचा संबंधी संक्रमणों को काटता है, उसी प्रकार से यह उन चीज़ों से भी छुटकारा दिलाता है जो त्वचा में ढीलापन लाते हैं। क्योंकि त्वचा ढीले होने के बाद ही झुर्रियां बनती हैं, जो बुढ़ापे की निशानी होती हैं।
जीरे में विटामिन ई
जीरे में मौजूद विटामिन ई चेहरे की त्वचा में कसाव लाता है, उसका निखार बढ़ाता है और आपको हमेशा जवान दिखने में मदद करता है। इसके लिए आपको अधिक मेहनत करने की भी जरूरत नहीं है, हफ्ते में एक बार या दो हफ्ते के बाद जब भी आप फेस पैक लगाएं उसके चुटकी भर जीरे का पाउडर मिला लें।
नियमित मात्रा में ही डालें
ध्यान रहे, इसे नियमित मात्रा में ही डालें, क्योंकि इसके अधिक होने से प्रभाव उलटा भी हो सकता है। फेस पैक में जीरा मिलाकर लगाने से आपको यकीनन कुछ समय में ही आपको चेहरे की वो पहले वाली रंगत दिखनी आरंभ हो जाएगी।
खुजली से आराम
जिस प्रकार से जीरा त्वचा को निखारने का काम करता है, संक्रमण रहित बनाता है, उसी प्रकार से यह हमें खुजली जैसी परेशानी से भी राहत दिलाता है। यदि किसी को निरंतर खुजली रहने की शिकायत हो तो थोड़े से पानी में जीरा उबाल लें, बाद में उसे छानकर नहाने वाले पाने में मिलाकर नहा लें। यह प्रयोग जरूर आराम दिलाएगा…
बालों के लिए
अब अंत में बताते हैं जीरा आपके बालों के लिए कैसे फायदेमंद है। जीरा में अच्छी मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और बालों की ग्रोथ अच्छी करने वाला तैलीय तत्व पाया जाता है। अगर आपको बालों को लंबा एवं घना बनाने के लिए जीरा का प्रयोग करना है, तो इसके लिए आपको रसोई घर में इस्तेमाल होने वाला जीरा नहीं, बल्कि काला जीरा चाहिए होगा।
काला जीरा
जी हां… काला जीरा बालों को मजबूत एवं लंबा बनाने के लिए उपयोगी है। आप इसे विभिन्न प्रकार से प्रयोग में ला सकते हैं। आप बालों पर यदि ऑलिव ऑयल इस्तेमाल करते हैं तो उसमें काला जीरा मिलाकर लगा सकते हैं।
बालों के झड़ने की परेशानी
यदि किसी को बालों के झड़ने की परेशानी है तो, बाल धोने के बाद काला जीरा वाला तेल उस हिस्से पर सीधा लगाएं जहां बालों की संख्या निरंतर कम हो रही हो। ऐसा रोज़ाना करेंगे, तो जल्दी असर दिखाई देगा। इसके अलावा आप रोज़ाना काला जीरा का दवा की तरह सुबह-शाम सेवन भी कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.