Header Ads

सुबह खाली पेट चाय पिने वाले जरुर पढ़े ये खबर….


सुबह खाली  पेट चाय पिने वाले जरुर पढ़े ये खबर….



हर इंसान की आदत होती है सुबह उठकर सबसे पहले एक कप चाय पीना! आजकल ये लगभग हर इंसान की आदत में शामिल हो गया है ! लेकिन अगर आप सुबह सुबह खाली पेट में चाय पीते हो तो ये शरीर के लिए हानिकारक हो जाता है! खाली पेट चाय पीने से पेट में एसिडिटी हो जाती है !आयुर्वेद के अनुसार कभी भी खाली पेट चाय नहीं पीना चाहिए ! चाय के साथ एक या दो बिस्कुट जरुर खाना चाहिए ! खाली पेट चाय पीने से क्या क्या नुकसान हो सकते है ? आइये इसके बारे में जानने की कोशिश करते है !



खाली पेट चाय पीने से पुरुषो को प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना होती है ! कैंसर से बचने के लिए खाली पेट चाय पीना छोड़ दें !
खाली पेट दूध वाली चाय पीने से थकावट महसूस होने लगती है और स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है !
खाली पेट अदरक वाली चाय पीने से पेट में गैस की की समस्या बढ़ जाती है !

खाली पेट ब्लैक टी पीने से पेट में एसिडिटी बढ़ जाती है, जिसके कारण पेट फूलने लगता है !
खाली पेट चाय पीने से शरीर में प्रोटीन और अन्य न्यूट्रिन की मात्रा घट जाती है !

चाय के अंदर टेनिन नामक कैमिकल होता है, इसलिए कुछ लोगों को खाली पेट चाय पीने से उल्टी आने जैसा महसूस होने लगता है !
चाय में कैफीन, एल थायनिन थिसोफाइलिन नमक कैमिकल भी होता है ! जिसके कारण खाली पेट चाय पीने से व्यक्ति को अपच (डाइजेशन) की समस्या हो सकती है !

खाली पेट चाय पीने से गैस्ट्रिक म्युकोसा बढ़ने से भूख कम लगने लगती है !
खाली पेट चाय पीने से पेट में अल्सर हो सकता है


सुबह खाली पेट उबले चने खाने से होगा वो जो आपने सोचा भी नही होगा…



कई लोग अपनी भूख को मिटाने के लिए चना खाते है या फिर लोग चने की दाल या भुने हुए चने खाते है. आयुर्वेद में चना शरीर के लिए आवश्यक तत्व माना जाता है. चना खाने से शरीर के कई रोग दूर हो जाते है. बाकि दालों की अपेक्षा चले की दाल सबसे सस्ती दाल भी मानी जाती है. चने की दाल में सभी प्रकार के पोषक तत्व होते है और यह शरीर में अनेक रोगों से लड़ने की ताकत भी देता है. यह दिमाग को तेज करता है तो चेहरे की सुन्दरता भी बढाता है. अंकुरित चले को खाने से ताकत मिलती है और इसको सुबह खाली पेट खाया जायेगा तो सोने पे सुहागा भी बन जाता है.



सर्दियों में चने के आटे का हलवा खाने से अस्थमा बीमारी दूर हो जाती है. चने में नमक मिलाकर रोटी बनाने और लगातार 40 से 60 दिन तक सेवन करने से कई त्वचा संबंधी बीमारी जैसे दाद, खाज, खुजली आदि से छुटकारा मिल जाता है. रात में सोने से पहले भुने हुए चने को गर्म दूध में साथ खाने से सांस नली में कई प्रकार से रोग दूर हो जाते है. साथ में सांस की नली में जमे कफ से भी छुटकारा मिल जाता है. चने को शहद में मिलाकर खाने से नपुंसकता के विकार को भी दूर किया जा सकता है.
पीलिया की बीमारी होने पर 100 ग्राम चने की दाल में 2 ग्लास पानी में दो घंटे के लिए भिगा दें. इसके बाद दाल और पानी दोनों को अलग अलग कर ले. इस दाल में 100 ग्राम गुड को मिलकर पीलिया के रोगी को खिलाने से रोगी को आराम मिलता है. चीनी के बर्तन में चनो को भिगा कर सुबह इसको खाने से वीर्य बढ़ता है और पुरुष को नपुंसकता संबंधी कई बीमारी दूर हो जाएगी.

भुने हुए चने खाने से बवासीर की बीमारी ठीक होती है ! 10 ग्राम भीगे चने की दाल में 10 ग्राम ही शक्कर मिला कर 40 दिन तक खाने से धातु मजबूत हो जाता है. 25 ग्राम काले चले रात में भीगाकर और सुबह खाने से डायबीटीज की बीमारी ठीक हो जाती है. रात में पानी में भीगे चने में से चने को हटाकर बचे हुए पानी में जीरा अदरक और नमक मिलकर खाने से कब्ज और पेट दर्द की बीमारी ठीक हो जाती है.

गर्म चने को एक कपडे में बांध कर उसकी खुशबु को सूंघने से जुकाम ठीक होता है. नियमित रूप से नाश्ते में चने का सेवन करने से मोटापा कम हो जाता है. अंकुरित चने में नींबू, अदरक के टुकड़े और काला नमक मिलाकर खाने से शरीर को ताकत मिलती है. गर्मियों में चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलाकर पीने से शरीर को ताकत मिलती है. गर्भवती महिला को चने के सत्तू को पिलाने से महिला की उलटी रुक जाती है.
पेट में पथरी होने से रात में भीगे हुए चने में शहद मिलाकर प्रतिदिन खाने से पथरी पेट से निकलने में आसानी हो जाती है ! चने के आटे की रोटी खाने से पाचन तंत्र मजबूत होती है ! चने खाने से रक्त विकार दूर होता है और खून साफ़ होने से त्वचा सुन्दर होती है !चने को खाने से डायबिटीज, अनीमिया और बुखार जैसी बीमारी दूर होती है इसलिए आज से ही चना खाना शुरू कीजिये और बीमारियों को दूर भगाइए !

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.