Header Ads

अंतरराष्‍ट्रीय योगा दिवस: रोज करेंगी ये आसन.


अंतरराष्‍ट्रीय योगा दिवस: रोज करेंगी ये आसन.
.. तो मां बनने के बाद भी फिगर रहेगा फिट
https://healthtoday7.blogspot.in/

बद्ध-पद्मासन की विधि- सबसे पहले साफ और खुली जगह पर कंबल या दरी बिछाकर सामान्य स्थिति में बैठ जाएं। अब दाएं पैर को घुटनों से मोड़कर बाएं जांघ पर एड़ी को दाएं कमर से सटाकर रखें। इसी तरह बाएं पैर को भी घुटनों से मोड़कर दाएं जांघ पर एड़ी को बाएं कमर से सटाकर रखें।



https://healthtoday7.blogspot.in/
इसके बाद बाएं हाथ को पीछे की तरफ से लाकर दाएं पैर के अंगूठे को पकड़ लें और दाएं हाथ को पीछे से लाकर बाएं पैर के अंगूठे को पकड़ लें। ऐसा करने पर आगे पिण्डलियों और पीछे हाथों से एक प्रकार से क्रॉस का निशान जैसा बन जाएगा।बद्ध-पद्मासन की इस स्थिति में आने के बाद रीढ़ की हड्डी, छाती, सिर व गर्दन सहित पूरे शरीर को सीधा रखें।




सिर एकदम सीधा और आंखों को सामने रखें। अब सांस अंदर खींचते हुए छाती को बाहर निकालें और शरीर को ऊपर की ओर खींचें। अपनी नजर को नाक के अगले भाग पर रखें। आसन की स्थिति में जब तक रहना सम्भव हो रहें और सामान्य स्थिति में सांस लेते रहें। इस आसन का अभ्यास पैरों की स्थिति बदल कर भी करें।



https://healthtoday7.blogspot.in/

बद्ध-पद्मासन के लाभ-

बद्ध-पद्मासन से पाचन शक्ति अच्छी रहती है। इस आसन में शरीर का खिंचाव होने से पेट, छाती, हाथ व पैर पर बल पड़ता है और शरीर शक्तिशाली व निरोगी होता है। साथ ही पेट की चर्बी भी काफी कम होती है। इस आसन से कमर पतली, मजबूत और सुंदर बनती है। यह कब्ज को खत्म करता है और पेट के रोगों दूर करता है।

गर्भवती स्त्री के इस आसन को करने से गर्भाशय की अनेक बीमारियां दूर हो जाती है। प्रसव के बाद स्त्री के पेट की त्वचा पर झुर्रियां, ढीलापन और कोमलता आदि इस आसन को करने से खत्म हो जाते हैं। इस आसन से हड्डियों का बुखार ठीक होता है।


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: मयूरासन करने से फिट रहने के साथ ही ताकतवर भी बनते हैं आप.. जानें तरीका


आज हम आपको बता रहे हैं मयूरासन के बारे में। जो अकेला ऐसा योग है जिसके करने से पूरा शरीर फिट रहता है। इसके नियमित अभ्यास से शरीर लचीला और मजबूत बनाता है और मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है। ये आसन शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए सबसे अच्छा योगासन है।


https://healthtoday7.blogspot.in/

इसे करने के लिए सबसे पहले दरी या चटाई बिछा लें। फिर उस पर पेट के बल लेट जाएं। अपने दोनों पैरों के पंजो को आपस में अच्छे से मिला लें। हाथ के अंगूठे और अंगुलियां अंदर की ओर रखते हुए हथेली जमीन पर रखें। अब दोनों हाथ की कोहनियों को नाभि केन्द्र के दाएं-बाएं अच्छे से जमा लें। हाथ के पंजे और कोहनियों के बल पर धीरे-धीरे सामने की ओर झुकते हुए शरीर को आगे झुकाने के बाद पैरों को धीरे-धीरे सीधा कर दें। ऐसा करने के बाद अपने पुरे शरीर का वजन कोहनियों के ऊपर कर दें और अपने घुटने और पैरों को जमीन से उठा लें।




मयूरासन के फायदे- इस योगासन के नियमित अभ्यास से पेट की कई समस्याओं में लाभ होता है। इससे लीवर, पेट, अग्नाशय और स्प्लीन में नई जान आ जाती है। ये आसन आपकी बाजूओं से एक्स्ट्रा फैट कम करता है जिससे मसल्स टाइट होती हैं और कॉलर बोन निकालने में आपकी मदद करता है। इस आसन में आगे की तरफ झुका जाता है जिससे कि ब्लड प्रेशर ठीक रहता है। ये स्किन प्रॉबल्म के लिए काफी कारगर योगासन है। इसके नियमित अभ्यास से आप ग्लोइंग स्किन पा सकते हैं।


https://healthtoday7.blogspot.in/

मयूरासन मानसिक तनाव को दूर करने और मन शांत रखने के लिए किया जा सकता है। इस योगासन के अभ्यास से कब्ज, अपच, गैस आदि से निजात पाने में मद मिलती है। पाचन क्रिया ठीक रहती है। मयूरासन के जरिए बाजुओं और कंधो को मजबूती मिलती है।

मयूरासन - सावधानियां

इस आसन को करने पर पेट खाली होना चाहिए। अगर ब्लड प्रेशर, टीबी, ह्रदय रोग, अल्सर और हर्निया रोग की शिकायत हो, तो इस आसन को विशेषज्ञों और चिकित्सकों के परामर्श लेकर ही करना चाहिए।




अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: घर बैठकर करें ये तीन योगासन.. 60 की उम्र में भी बन जाएंगे 6 पैक एब्स


लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि आप घर पर ही योग की मदद से सिक्स पैक एब्स बना सकते हैं। लेकिन इन योगासनों को आपको नियमित रूप से करना पड़ेगा।



https://healthtoday7.blogspot.in/
पादउत्‍थानासन : इस असान को करने के लिए आपको सबसे पहले कमर के बल जमीन पर आसन बिछाकर को‍हनियों का सहारा लेते हुए लेटना होता है। लेटने के बाद शरीर को बिल्कुल ढीला छोड़ दें और सांस भरते हुए दोनों पैरों को एक साथ ऐसे उठाएं कि पैरों का ऐंगल 45 डिग्री बन जाएं और 45 डिग्री पर पैरों को रोक दें। ऐसा करते हुए आपके एब्डोमन पर जोर पड़ेगा। अब फिर सांस छोड़ते हुए पैर वापस ले आएं। जितनी देर तक इस आसन में रूक सकते हैं रुकें और फिर शरीर को ढीला छोड़ दें। दूसरी क्रिया में फिर से सांस भरते हुए घुटनों को बिल्कुल सीधा रखते हुए दोनों पैरों को 90 डिग्री के ऐंगल पर सीधा उठाएं। इसमें आप हाथों का सपोर्ट भी ले सकते हैं। इस आसन में आपको पेट पर पड़ने वाले दबाव पर ध्यान टिकाना है। सांस छोड़ते हुए पैरों को वापिस ले आएंगे। शरीर को फिर ढ़ीला छोड़ देंगे। कम से कम 5 से 10 बार इन दोनों क्रियाओं का अभ्यास करें।




वीरभद्रासन : यह योगासन अंदरुनी मजबूती में सुधार करने में मदद करता है। इसके साथ ही यह पैरों को मजबूत करने में मदद करता है। यह वर्कआउट शरीर के लिए प्रभावी होता है। इसे करने के लिए दांया पैर घुटने से मोड़ते हुए आगे की तरफ लाएं। उसके बाद बाएं पैर को 90 डिग्री के कोण पर दायें पैर से दूर रखें। उसके बाद अपने हाथों को साइड में फैल लें। इस मुद्रा में 60 सेकेंड तक रहें।


https://healthtoday7.blogspot.in/

हलासन : ये आसन न सिर्फ आपके सिक्स पैक एब्स बना देगा, बल्कि पाचन क्रिया में भी बिल्कुल दुरुस्त कर देगा। इससे कमर, पेट, कंधों, पैरों की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। इसे करने के लिए जमीन पर पीठ के बल लेटें और दोनों हाथों को मिलाकर रखें। हथेलियों को जमीन से सटाकर रखें। चेहरा ऊपर रखें। अब सांस लें और पैरों को सिकोड़कर ऊपर उठाना शुरू करें। दोनों पैर जब शरीर से 90 डिग्री का कोण बनाएं तो सांस छोड़ना शुरू करें। दोनों पैरों को सिर के पीछे जमीन से लगाएं। इसे चार बार कर सकते हैं।
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: मयूरासन करने से फिट रहने के साथ ही ताकतवर भी बनते हैं आप.. जानें तरीका


आज हम आपको बता रहे हैं मयूरासन के बारे में। जो अकेला ऐसा योग है जिसके करने से पूरा शरीर फिट रहता है। इसके नियमित अभ्यास से शरीर लचीला और मजबूत बनाता है और मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है। ये आसन शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए सबसे अच्छा योगासन है।




इसे करने के लिए सबसे पहले दरी या चटाई बिछा लें। फिर उस पर पेट के बल लेट जाएं। अपने दोनों पैरों के पंजो को आपस में अच्छे से मिला लें। हाथ के अंगूठे और अंगुलियां अंदर की ओर रखते हुए हथेली जमीन पर रखें। अब दोनों हाथ की कोहनियों को नाभि केन्द्र के दाएं-बाएं अच्छे से जमा लें। हाथ के पंजे और कोहनियों के बल पर धीरे-धीरे सामने की ओर झुकते हुए शरीर को आगे झुकाने के बाद पैरों को धीरे-धीरे सीधा कर दें। ऐसा करने के बाद अपने पुरे शरीर का वजन कोहनियों के ऊपर कर दें और अपने घुटने और पैरों को जमीन से उठा लें।
https://healthtoday7.blogspot.in/



मयूरासन के फायदे- इस योगासन के नियमित अभ्यास से पेट की कई समस्याओं में लाभ होता है। इससे लीवर, पेट, अग्नाशय और स्प्लीन में नई जान आ जाती है। ये आसन आपकी बाजूओं से एक्स्ट्रा फैट कम करता है जिससे मसल्स टाइट होती हैं और कॉलर बोन निकालने में आपकी मदद करता है। इस आसन में आगे की तरफ झुका जाता है जिससे कि ब्लड प्रेशर ठीक रहता है। ये स्किन प्रॉबल्म के लिए काफी कारगर योगासन है। इसके नियमित अभ्यास से आप ग्लोइंग स्किन पा सकते हैं।




मयूरासन मानसिक तनाव को दूर करने और मन शांत रखने के लिए किया जा सकता है। इस योगासन के अभ्यास से कब्ज, अपच, गैस आदि से निजात पाने में मद मिलती है। पाचन क्रिया ठीक रहती है। मयूरासन के जरिए बाजुओं और कंधो को मजबूती मिलती है।

मयूरासन - सावधानियां

इस आसन को करने पर पेट खाली होना चाहिए। अगर ब्लड प्रेशर, टीबी, ह्रदय रोग, अल्सर और हर्निया रोग की शिकायत हो, तो इस आसन को विशेषज्ञों और चिकित्सकों के परामर्श लेकर ही करना चाहिए।
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: मयूरासन करने से फिट रहने के साथ ही ताकतवर भी बनते हैं आप.. जानें तरीका
https://healthtoday7.blogspot.in/

आज हम आपको बता रहे हैं मयूरासन के बारे में। जो अकेला ऐसा योग है जिसके करने से पूरा शरीर फिट रहता है। इसके नियमित अभ्यास से शरीर लचीला और मजबूत बनाता है और मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है। ये आसन शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए सबसे अच्छा योगासन है।




इसे करने के लिए सबसे पहले दरी या चटाई बिछा लें। फिर उस पर पेट के बल लेट जाएं। अपने दोनों पैरों के पंजो को आपस में अच्छे से मिला लें। हाथ के अंगूठे और अंगुलियां अंदर की ओर रखते हुए हथेली जमीन पर रखें। अब दोनों हाथ की कोहनियों को नाभि केन्द्र के दाएं-बाएं अच्छे से जमा लें। हाथ के पंजे और कोहनियों के बल पर धीरे-धीरे सामने की ओर झुकते हुए शरीर को आगे झुकाने के बाद पैरों को धीरे-धीरे सीधा कर दें। ऐसा करने के बाद अपने पुरे शरीर का वजन कोहनियों के ऊपर कर दें और अपने घुटने और पैरों को जमीन से उठा लें।




मयूरासन के फायदे- इस योगासन के नियमित अभ्यास से पेट की कई समस्याओं में लाभ होता है। इससे लीवर, पेट, अग्नाशय और स्प्लीन में नई जान आ जाती है। ये आसन आपकी बाजूओं से एक्स्ट्रा फैट कम करता है जिससे मसल्स टाइट होती हैं और कॉलर बोन निकालने में आपकी मदद करता है। इस आसन में आगे की तरफ झुका जाता है जिससे कि ब्लड प्रेशर ठीक रहता है। ये स्किन प्रॉबल्म के लिए काफी कारगर योगासन है। इसके नियमित अभ्यास से आप ग्लोइंग स्किन पा सकते हैं।




मयूरासन मानसिक तनाव को दूर करने और मन शांत रखने के लिए किया जा सकता है। इस योगासन के अभ्यास से कब्ज, अपच, गैस आदि से निजात पाने में मद मिलती है। पाचन क्रिया ठीक रहती है। मयूरासन के जरिए बाजुओं और कंधो को मजबूती मिलती है।

मयूरासन - सावधानियां

इस आसन को करने पर पेट खाली होना चाहिए। अगर ब्लड प्रेशर, टीबी, ह्रदय रोग, अल्सर और हर्निया रोग की शिकायत हो, तो इस आसन को विशेषज्ञों और चिकित्सकों के परामर्श लेकर ही करना चाहिए।








योगा और स्वास्थ्य शरीर को लचीला बनाने के लिए योगा वर्कआउट…..




ताकत बढ़ाने और लचीलेपन में वृद्धि लाने के अलावा, योग आपको ध्यान केंद्रित करने और मानसिक आराम देने में भी मदद करता है| योगा का अभ्यास आपके शरीर का ख्याल रखने में आश्चर्यजनक मदद प्रदान करता है|
आजकल की इस भागदौड़ भरी जिंदगी और व्यस्तता से भरे वक्त में खुद को चार्ज करना तो बहुत जरुरी है| लेकिन इसके लिए आपको किसी सलून में जाकर स्पा लेने की जरुरत नहीं है| आपको अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में Yoga Workout को शामिल कर लेना चाहिए| क्योकि इससे आपको अपने अंदर बहुत जल्दी कई फायदे देखने को मिलेंगे|
और इसके लिए आपको बस नियमित 20 से 30 मिनट देने होंगे| रोजाना केवल इतना वक्त को देकर आप अपनी लाइफस्टाइल को बेहतर बना सकते है| तो चलिए आज इसी बारे में जानते है|
Yoga Workout – अच्छे शरीर के लिए जानें और आजमाएं
वार्मअप
किसी भी वर्कआउट को करने से पहले वार्मअप करना बहुत जरुरी है| क्रॉस लेग करके, जमीन पर बैठ जाये, अपनी पीठ को सीधी रखे| अपनी आँखे बंद करले और दो मिनट के लिए गहरी सांस ले|अब अपने धड़ को एक बार बाये तरफ और एक बार दाये तरफ झुकाये| ऐसा 5 से 10 बार करे|
वर्कआउट
हम आपको निचे कुछ आसन बता रहे है, इन आसनो को आप इन्ही बताये गए फ्लो में करे|
स्टेप 1: (माउंटेन पोज – ताड़ासन)
सबसे पहले एकदम सीधे खड़े हो जाए और अपने कमर एवं गर्दन एवं पीठ को सीधा रखें। इसके पश्चात अपने हाथ को सिर के ऊपर करें और सांस लेते हुए धीरे धीरे पुरे शरीर को ऊपर उठाये| इस खिंचाव को आपको पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुलियों तक महसूस करना है| कुछ देर इस अवस्था में बने रहे| इसके बाद सांस छोड़ते हुए धीरे धीरे निचे आये| इस प्रक्रिया को कम से कम तीन से चार बार दोहराये|
स्टेप 2: (एक्सटेंडेड साइड एंगल – उत्थितपार्श्वकोणासन)
सबसे पहले ताड़ासन की मुद्रा में खड़े हो जाये| अब अपने दाए पैर को बाहर की और करके मोड़े, इसके अलावा अपने बाये पैर को पीछे की और करके चित्र में दिखाए अनुसार सीधा रखे| अपने सीधे हाथो को घुटने पर रखे, और उलटे हाथ को सीधा करके, अपने सर के ऊपर ले जाये| आपके पैर से लेकर हाथ सभी एक लाइन में सामानांतर लगना चाहिए|
स्टेप 3: (केट पोज़ – मार्जरी आसन)
सबसे पहले घुटनों और हाथों के बल आकर अपने शरीर को एक मेज़ की तरह बना लें और अपनी पीठ को मेज़ के ऊपरी हिस्से की तरह| आपके हाथ ओर पैर, मेज़ के चारों पैर होंगे| हथेलिया जमीन की और तथा गर्दन सीधी नज़रें सामने रखें| अब सांस लेते हुए अपनी ठोड़ी को ऊपर उठाये तथा सर को पीछे की और करे|
सर को पीछे करते वक्त, अपनी नाभि को भी जमीन की तरफ दबाएं और अपनी कमर के निचे के हिस्से को ऊपर की और उठाये| आपको यह तब तक करना है जब तक आप खिचाव महसूस ना करे| कुछ देर इसी मुद्रा में बने रहे और लम्बी गहरी सास ले और छोड़े|
अब इसका उल्टा करे, सांस छोड़े और थोड़ी को छाती से लगाएं और अपनी पीठ को धनुष के आकार मेँ जितना हो सके ऊपर की और करे| इस स्थिति में कुछ समय बने रहे और वापिस पहले की मुद्रा में आ जाये| मार्जरी आसन की इस प्रक्रिया को कम से कम पांच बार करे|
स्टेप 4: (डाउनवर्ड फेसिंग डॉग – अधोमुख श्वानासन)
सबसे पहले कैट पोस की मुद्रा में आ जाये| इस मुद्रा में आप घुटने के बल होते है| याने की आपके हाथ और पैर निचे होते है और पीठ सीधी| इसके पश्चात अपने हाथों पर ज़ोर डाल कर पहले दाईं टाँग और फिर बाईं टाँग को पीछे की और ले जाये| अपनी बाज़ुओं को जितना हो सके सीधा रखें और पीठ को सीधा रखते हुए छाती को ज़मीन की ले जाये|
इस मुद्रा में रहते हुए आपकी छाती और कंधों में भी खिचाव महसूस होगा। इस मुद्रा में रहते हुए पाँच बार साँस अंदर लें और बाहर छोड़ें| इस तरह आप इस मुद्रा में 30 से 60 सेकेंड तक रह पाएंगे। स्टार्टिंग में जितना हो उतना ही करे, धीरे धीरे इसका समय बढ़ाये|
स्टेप 5: (एक्सटेंडेड साइड एंगल – उत्थितपार्श्वकोणासन)
यह स्टेप का विवरण हम ऊपर बता चुके है, आपको ऊपर बताये गए तरीके से इसे रिपीट करना है|
स्टेप 6: (लोकस्ट पोस – शलभासन)
सबसे पहले समतल जगह पर दरी बिछाकर लेट जाये| इसके पश्चात इस पर पेट के बल उलटा लेट जाये और अपने दोनों हाथों को जांघाओं के सामानांतर रखे| अब धीरे धीरे अपनी गर्दन को उपर की उठाये और ठोडी को जमीन से टिकाये|
अब आपको अपने पैरों को धीरे-धीरे बिना मोड़े उपर की तरफ उठाना है| आप जितनी देर रख सके, अपने पैरो को ऊपर की और उठाये रखे| इस बात का ख्याल रखे कि आपको बहुत ही आराम से पैरो को ऊपर उठाना है| झटके Oके साथ इसे ऊपर ना करे| कुछ सेकण्ड्स इस मुद्रा में रहने के बाद धीरे धीरे पैरों को नीचे की और लाएं। जब आप जमीन पर लेटें हुए रहेंगे उस वक्त सांस लें और जब आप पैरों को उपर उठाते है तब सांसों को रोक कर रखे। जब पैर नीचे की और लाते है, तब अपनी सांस बाहर निकाले|
इन 6 स्टेप्स के साथ आप अपने Yoga Workout को कम्पलीट कर सकते है|

अंतराष्ट्रीय योग दिवस : आपकी मर्दानगी बढ़ाएंगे ये योगासन, आज से ही कर दें शुरू
योग की मदद से न सिर्फ सेहत का ख्याल रखा जाता है, बल्कि कुछ योगासन ऐसे भी हैं जो पुरुषों की मर्दानगी कई गुना तक बढ़ा देते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही आसन बताएंगे जो आपकी पौरूष शक्ति के लिए चमत्कार से कम नहीं है।



अर्ध कमल पोज : कई बार किसी-किसी के जीवन में ऐसा दौर आता है जब पार्टनर के साथ संबंध बनाने में बिलकुल मन नहीं करता। इसके लिए यह योगासन बहुत कारगर है। इस योगासन को करने के लिए पैरों को मोड़कर हाथों की दोनों कोहनियों को घुटनों पर रख , ब्रह्मा की तरह हाथों की उंगलियों को मोड़ कर बैठे। इस दौरान साथ लेते और छोड़ते रहें। ऐसा करने से दिमाग पर काफी असर होता है। मन को शांति प्राप्त होती है और मर्दाना क्षमता बढ़ती है।



तितली आसन : इस आसन को मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए रामबाण माना जाता है। इसे करने के लिए जमीन पर बैठकर दोनों घुटनों को इस तरह मोड़े कि आपके पैरों के तलवे आपस में जुड़ जाएं। रोजाना करीब 3 मीनट तक इस आसन को करें। तितली आसन को करने से यौन संबंध के प्रति रूची तो बढ़ती ही है साथ-साथ चरम आंनद का उपभोग भी कर पाते हैं।


कोबरा पोज : इस योगासन में पेट के बल लेटकर हथेलियों पर जोर देते हुए शरीर को पीछे की तरफ मोड़ना पड़ता है। इस पोज को हर 30 सेकेंड में 3 मिनट तक करें। साथ ही लंबी-लंबी सांसे भी लें। ऐसा करने से पेट की मांसपेशियों को आराम मिलता है। साथ ही सेक्स हॉरमोन बैलेंस्ड होते हैं।



ब्रिज पोज : इसे करने के लिए सबसे पहले अपने पीठ पर लेटकर पैरों के बल ऊपर की ओर उठने की कोशिश करें। जैसे तस्वीर में दिखाया गया है। इस अवस्था में एक मिनट तक रहें और धीरे धीरे सांस लेते रहे। ऐसा करने से रीढ़ की हड्डी को आराम मिलता है और दिमाग तेजी से काम करने लगता है। इससे शरीर में यौन आनंद के लिए एक अलग एनर्जी मिलती है।


मेंढक पोज : यह आसन सेक्सुअल हेल्थ के लिए बहुत अच्छा है। ये आसन आपके पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है और शरीर में ब्लड फ्लो को बढ़ाता है। इस आसन में मेंढक की तरह बैठना पड़ता है जिसमें पैरों और हाथों की उंगलियां ही सिर्फ जमीन को छूती हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.