Header Ads

आपकी जीभ का रंग खोलता है आपके स्वास्थ्य के बारे में कई राज़


आपकी जीभ का रंग खोलता है आपके स्वास्थ्य के बारे में कई राज़

हम रोज़ाना सुबह दांतों को तो बड़े जतन करके चमकाते हैं, लेकिन जीभ पर ध्यान तो देते ही नही हैं। कुछ लोग जीभ की सफाई तो करते हैं लेकिन इसके रंग और बनावट पर ध्यान नहीं देते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि आपकी जीभ का रंग आपके स्वास्थ्य के बारे में बहुत सी बातें उजागर करता है। जीभ के रंग के अलावा जीभ का आकार भी आपके व्यक्तित्व के बारे में कई बातें उजागर करता है।


अगली बार से आप अपनी जीभ के रंग को भी ध्यान से देखकर पता कर लें कि कहीं आपको भी स्वास्थ्य संबंधी ये समस्याएं तो नही हैं।


स्वस्थ्य व्यक्ति की जीभ होती है गुलाबी रंग की



आमतौर पर किसी भी स्वस्थ्य व्यक्ति की जीभ गुलाबी रंग की होती है और उसपर हलके सफ़ेद रंग की परत होती है। यह मध्यम मोटाई की होती है और इसपर दरारें, अल्सर्स या दाँतों के निशान नहीं बने होते हैं।
लाल रंग 



अगर आपकी जीभ का रंग लाल है तो इसका मतलब हुआ आपमें पौषक तत्वों, ख़ासतौर से लौह तत्वों और विटामिन B की कमी है। इन तत्वों की कमी से शरीर में ऊर्जा का स्तर कम होना, कोशिकाओं की वृद्धि में बाधा उत्पन्न होना, नर्वस सिस्टम का सही तरीके से काम नहीं करना जैसी समस्याएं जन्म लेती हैं।


जीभ का रंग फीका पड़ना




यदि जीभ पेल या फीके लाल रंग की है तो आपके खून में हीमोग्लोबिन की कमी है। हीमोग्लोबिन शरीर में ऑक्सीजन को डिलीवर करने लिए जिम्मेदार होता है और इसकी कमी होने से शरीर में कमजोरी बनी रहती है। इसके अलावा जीभ का रंग फीका होना आपकी जीभ पर जीवाणुओं, डेड सेल्स और डेब्रिस का होना भी दर्शाता है।
पर्पल जीभ 


पर्पल जीभ होने का अर्थ होता है कि आपके शरीर में तरल पदार्थ और खून सही तरीके से सर्क्युलेट नहीं हो रहे हैं। जिस वजह से सुस्ती बनी रहती है और व्यक्ति भावनात्मक रूप से भी कमजोर हो जाता है। वहीं कुछ मामलों में तो बात डिप्रेशन तक पहुँच जाती है। इसके अलावा इन लोगों में कोलेस्ट्रॉल अधिक मात्रा में होता है और हृदय संबंधी रोग होते हैं उनकी जीभ भी पर्पल रंग की होती है।


काली और बालदार जीभ 



सामान्य तौर पर किसी भी व्यक्ति की जीभ का रंग काला नहीं है। यह कुछ समय के लिए ही रहता है और नुकसानदायक भी नहीं होता है। जीभ का रंग काला होने के पीछे जीभ पर बैक्टीरिया और अन्य प्रकार की गन्दगी जमने जैसे कारण होते हैं। पुअर ओरल हाइजीन, तम्बाकू का सेवन, एंटीबायोटिक्स और पेट संबंधी रोगों की दवाइयां लेने से मुंह में ज्यादा मात्रा में बैक्टीरिया पनपते हैं। 


पीली जीभ




पीली जीभ भी बैक्टीरिया की वजह से होती है। जीभ पर बने छोटे-छोटे दानों पर डिहाइड्रेशन, मुँह से सांस लेने, स्मोकिंग करने और बुखार होने पर सूजन आ जाती है।
सफ़ेद जीभ 



जीभ का रंग सफ़ेद होने के पीछे मुख्य कारण डिहाइड्रेशन, मुँह के छाले, और (Oral leukoplakia) ओरल ल्यूकोप्लेकिया होते हैं। ओरल ल्यूकोप्लेकिया की स्थिति स्मोकिंग करने और अन्य टंग इर्रिटेन्ट्स की वजह से उत्पन्न होती है।


ब्राउन जीभ 



ब्राउन जीभ को मेलेनोमा का संकेत माना जाता है। इसलिए अगर आपको अपनी जीभ पर इस रंग की परत दिखाई दे तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से संपर्क करे।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.