Header Ads

हर किसी को जाननी चाहिए सेक्स से ज़ुड़ी ये 35 रोचक बातें


हर किसी को जाननी चाहिए सेक्स से ज़ुड़ी ये 35 रोचक बातें 


सेक्स से जुड़ी बहुत–सी ऐसी बातें हैं जिनके बारे में शायद ही आपको कोई जानकारी हो. आपकी सेक्स नॉलेज को बढ़ाने के लिए प्रस्तुत है वैज्ञानिकों द्वारा समय–समय पर किए गए सेक्स संबंधी शोध और सर्वे रिपोर्ट्स की संक्षिप्त जानकारी.

1. सप्ताह में दो या तीन बार सेक्स करनेवाले लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है.

2. एक सर्वे के अनुसार, 60% पुरुष चाहते हैं कि सेक्स के लिए औरत पहल करे.

3. सेक्स के दौरान हार्ट अटैक से मरनेवाले पुरुषों में से 85% पुरुष ऐसे होते हैं, जो अपनी पत्नी को धोखा दे रहे होते हैं.

4. जिन लोगों को अनिद्रा की शिकायत हो, उनके लिए सेक्स से बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता,क्योंकि सेक्स के बाद अच्छी नींद आती है. रिसर्च के अनुसार, ये नींदवाली दूसरी दवाओं की तुलना में 10 गुना ज़्यादा कारगर है.

5. 20% पुरुषों को ओरल सेक्स से आनंद आता है, जबकि 6% महिलाओं को ये महज़ फोरप्ले का हिस्सा लगता है.

6. अमेरिका में 12-15 साल के किशारों में ओरल सेक्स का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है और मज़ेदार बात तो ये है कि वो इसे सेक्सुअल क्रिया मानते ही नहीं.

7. 25 % महिलाएं सोचती हैं कि पुरुष रुपए–पैसे से सेक्सी बनता है.

8. ज़्यादा सेक्स करनेवाले पुरुषों की दाढ़ी अपेक्षाकृत तेज़ी से बढ़ती है.

9. लेटेक्स कंडोम की औसत लाइफ़ 2 साल होती है.

10. रोमांटिक उपन्यास पढ़नेवाली औरतें ऐसे उपन्यास न पढ़नेवाली औरतों की तुलना में सेक्स का ज़्यादा आनंद उठा सकती हैं.

11. यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर्स के मनोवैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध के अनुसार, पुरुष किसी भी दूसरे रंग के मुक़ाबले लाल रंग के परिधान में महिलाओं की ओर ज़्यादा आकर्षित होते हैं.

12. हाल ही में हुए शोध के अनुसार, जिन महिलाओं में इमोशनल इंटेलिजेन्स (अपनी भावनाओं को समझने के साथ–साथ अपने आसपास रहनेवाले लोगों की भावनाओं व ज़रूरतों की समझ)बेहतर होती है, वे सेक्स में उतनी ही अच्छी पार्टनर साबित होती हैं.

13. अक्सर कहा जाता है कि महिलाओं को सेक्स के लिए उत्तेजित होने में कम से कम 20 मिनट का समय लगता है, परंतु शोध से पता चला है कि किसी पुरुष की कल्पना और फोरप्ले से उत्तेजित होने में उन्हें मात्र 10 मिनट लगता है.

14. पुरुष तथा महिलाएं दोनों ही एक दिन में कई बार ऑगैऱ्ज्म का अनुभव कर सकते हैं.

15. अगर किसी महिला में सेक्स उत्तेजना उत्पन्न नहीं होती, तो एक बार ‘बर्थ कंट्रोल पिल्स’ को बदलकर देखें, क्योंकि कई बार अलग–अलग पिल्स में पाए जानेवाले हार्मोंस सेक्स की उत्तेजना को प्रभावित करते हैं. इन्हें बदलने से समस्या हल हो सकती है.



16. कई बार सीमेन (वीर्य) से ब्लीच जैसी गंध आती है. इससे कोई हानि नहीं है. यह प्राकृतिक डिसइंफेक्टेंट होता है एवं स्पर्म्स को योनि में पाए जानेवाले एसिड के बुरे प्रभाव से बचाता है.

17. एंकलबोन के नीचे एड़ी में सर्कुलर मसाज करने से सेक्सुअल उत्तेजना बढ़ती है.

18. पुरुष रात्रि की नींद के दौरान औसतन 4 या 5 बार इरेक्शन अनुभव करते हैं.

19. रिसर्च द्वारा पता चला है कि जो लड़कियां साइकिल रेस में हिस्सा लेती हैं या हर हफ़्ते 100मील साइकिल चलाती हैं, उनकी बाह्य जननेंद्रियों का सेंसेशन कम हो जाता है.

20. पेनिस की लंबाई का ऑर्गैज़्म से कोई संबंध नहीं होता, क्योंकि योनि का केवल 1/3 भाग ही संवेदनशील होता है. अगर सेक्स पोज़ीशन सही हो, तो छोटा पेनिस भी ऑर्गैज़्म दे सकता है.

21. जर्मन शोधकर्ताओं के अनुसार, सुरक्षित रिलेशनशिप में महिलाओं की सेक्सुअल इच्छा कम हो जाती है. 4-5 साल साथ–साथ रहने के बाद महिलाएं पुरुषों की इच्छानुसार सेक्स करती हैं.

22. ऐसे पुरुष, जिनके अनेक स्रियों से संबंध होते हैं, वे सेक्स को बहुत महत्वपूर्ण तो समझते हैं,परंतु अपने रिलेशनशिप से पूरी तरह संतुष्ट नहीं होते.

23. एक सर्वे के अनुसार, सेक्स के लिए कपल्स की सबसे पसंदीदा जगह बेडरूम के अलावा कार होती है.

24. यूनिवर्सिटी ऑफ ट्रॉम्प में हुए रिसर्च के अनुसार, नीली आंखोंवाले पुरुष अक्सर नीली आंखोंवाली स्री को ही पसंद करतेे हैं. यदि उनका बच्चा भूरी आंखोंवाला हुआ, तो वे सोचते हैं कि उनकी पत्नी ने उनके साथ धोखा किया है. वैसे आनुवांशिकता का नियम भी यही कहता है.

25. महिलाएं पीरियड्स के दौरान या उसके ठीक पहले ज़्यादा सुखद ऑर्गैज़्म का अनुभव करती हैं. ऐसा उनके पेल्विक एरिया में रक्तसंचार के बढ़ने के कारण होता है.

26. सेक्स के दौरान पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं ज़्यादा कल्पनाशील हो जाती हैं. इस तरह की सेक्सुअल फेंटेसी से उन्हें संतुष्टि तो मिलती ही है, आपसी संबंध भी मज़बूत होते हैं.

27. जो पुरुष ज़्यादातर सेक्सुअल फेंटेसी में रहते हैं, वे अपने रोमांटिक रिलेशनशिप से कम संतुष्ट रहते हैं.

28. एक रिसर्च के अनुसार, कॉलेज के दौरान जो लड़के सेक्स में लिप्त रहते हैं, वे अक्सर डिप्रेशन में चले जाते हैं, जबकि सेक्स न करनेवाले विद्यार्थी नॉर्मल रहते हैं.

29. कुछ महिलाओं को सीमेन (वीर्य) से एलर्जी होती है. सीमेन में मौजूद प्रोटीन के कारण उनके जननांग एवंं शरीर के अन्य हिस्सों पर जलन व खुजली की समस्या हो जाती है.

30. अध्ययन बताते हैं कि सेक्स से सिरदर्द व जा़ेडों का दर्द दूर होता है. वास्तव में ऑर्गैज़्म के तुरंत बाद ऑक्सीटोसिन हार्मोन का लेवल 5 गुना बढ़ जाता है, जिससे एंडॉरफिन हार्मोन का स्राव होता है. यह दर्द को दूर भगाता है.

31. सामान्यतः ऐसा समझा जाता है कि प्रेग्नेंसी से सेक्स की इच्छा मर जाती है, परंतु ऐसा नहीं है. गर्भावस्था के दौरान ज़्यादातर महिलाओं की सेक्स की इच्छा या तो बढ़ जाती है या पहले जैसी ही होती है.

32. रिसर्च के अनुसार, सिगरेट नहीं पीनेवालों की सेक्स की इच्छा, आनंद व संतुष्टि सिगरेट पीनेवालों की अपेक्षा ज़्यादा होती है.

33. जर्नल ऑफ सेक्स रिसर्च के अनुसार, कपल्स सामान्य तौर पर फोरप्ले में 11 से 13 मिनट लगाते हैं.

34. एक सर्वे के अनुसार, हफ़्ते में 3 या 4 बार सेक्स करने की इच्छा रखनेवाले पुरुषों व महिलाओं की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है.

35. जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है.

ध्‍यान या ( Meditation ) ला सकता है आपकी सेक्‍स लाइफ में नयी जान

नियमित ध्‍यान करने से न केवल शरीर निरोग रहता है बल्कि इससे आपके सेक्‍स लाइफ में नयी जान भी आती है । अगर आप किसी प्रकार की सेक्‍स समस्‍या से जूझ रहे हैं तब मेडीटेशन के जरिये इसमें सुधार ला सकते हैं। यानी यह सेक्‍स लाइफ का मजा लेने के लिए भी आप योग कर सकते हैं । 

जिन लोगों की सेक्स में रूचि न हो, शीघ्रपतन की समस्‍या हो, उनके लिए ध्‍यान एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है । मेडीटेशन किसी भी चीज पर फोकस करने के लिए किया जाता है । रोजाना सुबह के समय या शाम के समय खुली हवा में कम से कम 15 मिनट से 30 मिनट तक मेडीटेशन करें । इससे आपकी सेक्स में भी रूचि बढ़गी और आप सेक्स के दौरान नर्वस भी नहीं होंगे । इस लेख में विस्‍तार से जानिये ध्‍यान कैसे आपकी सेक्‍स लाइफ में नयी जान लाता है ।
खुद का अनुभव कराना
ध्‍यान लगाने से आप खुद को प्‍यार करना सीखते हैं । रिश्‍तों को मजबूत बनाने के साथ-साथ आपसी प्‍यार को बढ़ावा देने के लिए बहुत जरूरी है कि आप सबसे पहले खुद को प्‍यार करना सीखें । जब आप खुद को प्‍यार करेंगे तब अपने ऊपर अधिक ध्‍यान देंगे, इससे आपका शरीर स्‍वस्‍थ रहेगा । इसके अलावा इस तरह से बेड पर आप अपने पार्टनर से भी अच्‍छे से पेश आयेंगे और उसे अधिक प्‍यार करेंगे ।
स्थिरता सिखाता है
ध्‍यान आपको एक जगह पर स्थि‍र रहना सिखाता है, बेहतर सेक्‍स के लिए यह बहुत ही जरूरी बात है । जीवन की झंझावतों और उलझनों में आपका दिमाग हमेश कहीं न कहीं भटकता रहता है जिससे बेड पर सेक्‍स संबंध बनाते वक्‍त आप साथी पर अधिक जोर नहीं दे पाते । जबकि नियमित रूप से ध्‍यान लगाने से आपका दिमाग एक जगह स्थिर रहता है और बेड पर आप अपने और पार्टनर के बारे में ही सोचते हैं ।
सांस लेना सिखाता है
सेक्‍स संबंध एक व्‍यायाम की तरह है जिसमें सांसों की गति बढ़ जाती है, अगर आप एक्टिव नहीं हैं तो जल्‍दी थककर चूर हो जाते हैं । जबकि ध्‍यान आपको सांस लेना भी सिखाता है जो सेक्‍स के दौरान बहुत जरूरी है । ध्‍यान लगाते वक्‍त आप गहरी सांसें लेते हैं और यही काम अगर आप बेड पर करते हैं तब आपको यौन संबंध के दौरान समस्‍या नहीं होती । 
महसूस करना सिखाता है
ध्‍यान आपको फैसले के बिना पार्टनर की फीलिंग्‍स को महसूस करना सिखाता है । अगर कभी सेक्‍स के दौरान कोई समस्‍या आ जाये या फिर आपका पार्टनर किसी कारण वश आपका साथ न दे पाये तो उसके लिए आपके मन में गलत भावना पैदा हो सकती है । जबकि ध्‍यान यह सिखाता है कि अगर आपको शारीरिक सुख नहीं मिला तो कोई बात नहीं मानसिक सुख ही बहुत है । यह दिमाग से नहीं दिल से जोड़ने में मदद करता है ।
तनाव से बचाता है
सेक्‍स लाइफ का सबसे बड़ा दुश्‍मन तनाव भी है, तनाव के कारण सेक्‍स संब‍ंधित समस्‍या भी हो सकती है । अगर आप तनाव में रहेंगे तब आपके दिमाग में सेक्‍स के लिए जिम्‍मेदार हार्मोन का स्राव शायद ही हो पाये जिसके कारण आप सेक्‍स में उतनी रुचि नहीं ले पाते हैं और आपको सुख नहीं मिलता । लेकिन ध्‍यान तनाव और अवसाद से दिमाग को दूर रखता है जो कि सेक्‍स लाइफ में नई जान फूंकने के लिए जरूरी है । 
अगर आप किसी भी प्रकार की यौन समस्‍या से ग्रस्‍त हैं या बेड पर चरम आनंद नहीं पाते तो आपको अपनी दिनचर्या में मेडीटेशन को शामिल करना चाहिए ।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.